Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियामुंबईहेल्थ शिक्षा

गर्भवती महिलाओं का श्रीराम प्रेम , डॉक्टरों से है अजीब डिमांड!, 22 जनवरी को ही कराएं हमारी डिलीवरी

Advertisement
Advertisement

22 जनवरी को अयोध्या में होने वाले राम मंदिर के उद्घाटन समारोह की इस समय हर जगह चर्चा हो रही है. इस समारोह की तैयारियां हो चुकी हैं और इस उद्घाटन समारोह के लिए देश के हजारों नागरिकों और मशहूर हस्तियों को आमंत्रित किया गया है. लेकिन इस बीच देशभर में एक अलग ही माहौल देखने को मिल रहा है. कई गर्भवती महिलाएं इस बात पर जोर देती हैं कि उनकी डिलीवरी 22 जनवरी को होगी, जो राम मंदिर के उद्घाटन और भगवान राम की मूर्ति की स्थापना के शुभ समय पर है। कई निजी और सरकारी अस्पतालों में कम से कम पांच से 10 गर्भवती महिलाएं 22 जनवरी को सिजेरियन डिलीवरी के लिए डॉक्टरों से सलाह लेती देखी जाती हैं।

डिलीवरी के लिए ज्योतिषियों से भी सलाह ली जा रही है

डॉक्टरों का कहना है कि ऐसे मामलों में जहां सिजेरियन की आवश्यकता होती है, उस तारीख के आसपास सिजेरियन किया जा सकता है। लेकिन ऐसे मामलों में जहां सिजेरियन सेक्शन की आवश्यकता नहीं होती है, किसी निश्चित तिथि पर ऐसा करना संभव नहीं है, ऐसा डॉक्टर ने भी बताया है। इसके अलावा इस दिन बच्चे के जन्म को लेकर भी ज्योतिषियों से सलाह ली जा रही है।

घर में बड़ों का सहयोग मिलेगा

रामलला के आगमन के साथ ही कई जोड़े चाहते हैं कि उनके घर भी शिशु का आगमन हो. जो महिलाएं 22 जनवरी के आसपास बच्चे को जन्म देने वाली हैं, वे भी इस शुभ दिन पर प्रसव के लिए डॉक्टरों के पास आवेदन कर रही हैं। गर्भवती महिलाओं की इस इच्छा को पूरा करने के लिए उनके पति और परिवार के बड़े-बुजुर्ग भी उनका साथ देते नजर आते हैं। ऐसे अनुरोध करने वाले आवेदन बड़ी संख्या में आने लगे हैं। इसके लिए कई जोड़े सिजेरियन करवाने के लिए भी तैयार रहते हैं।

22 जनवरी को डिलीवरी के लिए डॉक्टरों पर दबाव

अस्पताल के एक डॉक्टर के मुताबिक, सभी डिलीवरी केस के लिए कोई खास दिन तय नहीं किया जा सकता। डॉक्टर ने कहा, कुछ मामले ऐसे होते हैं, जिनमें 15 दिनों के भीतर सीजेरियन सेक्शन की आवश्यकता होती है, ऐसे में उनकी इच्छानुसार 22 जनवरी की तारीख तय की जा सकती है। वहीं दूसरी ओर कुछ अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं द्वारा लगातार सिजेरियन डिलीवरी के लिए डॉक्टरों पर दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन कई मामलों में सिजेरियन नहीं किया जा सकता. जरूरत पड़ने पर ही सिजेरियन डिलीवरी कराई जा सकती है।

ऐसी डिलीवरी खतरनाक हो सकती है

कई डॉक्टरों ने ऐसी (सीजेरियन) डिलीवरी का विरोध किया है। क्योंकि ऐसा करने से महिला और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे दोनों की जान को खतरा हो सकता है, ऐसा डॉक्टरों का कहना है। हालांकि, अगर समय से पहले डिलीवरी का खतरा हो तो कई जोड़े इसे नजरअंदाज कर देते हैं, ऐसा डॉक्टर ने कहा।

Advertisement

Related posts

Girls Hostel: गर्ल्स हॉस्टल में अब तैनात रहेंगी महिला सुरक्षा रक्षक, लांड्री व अन्य पूरक सेवाओं के लिए केवल महिला आपूर्तिकर्ता

Deepak dubey

Fake encounter: फर्जी एनकाउंटर पर कब लगेगा लगाम, नालासोपारा फर्जी एनकाउंटर मामले मे दो पुलिस कर्मियों की हुई गिरफ़्तारी

Deepak dubey

फ्लैट के लिए श्रद्धा को बताया था ‘पत्नी’, जांच में हुए कई बड़े खुलासे

Deepak dubey

Leave a Comment