Joindia
राजनीति

Shivsena UBT: सिर पर अपात्रता की लटकती तलवार! अनिल देसाई ने की जोरदार टिप्पणी, विधानसभा अध्यक्ष के सामने सुनवाई में शिंदे गुट हताशा

Advertisement

विधायक की अयोग्यता को लेकर गुरुवार को विधानमंडल में करीब ढाई घंटे तक सुनवाई चली। इस मौके पर शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) (Shivsena UBT) पक्ष और शिंदे गुट के वकीलों ने दलीलें पेश की। शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) पक्ष ने सभी याचिकाओं की सुनवाई एक साथ कराने की मांग की। जबकि शिंदे गुट के वकील ने हर याचिका पर अलग से सुनवाई करने की मांग की। इन सभी घटनाओं पर सुनवाई जैसे जैसे आगे बढ़ रही है घाती विधायकों पर अपात्रता की तलवार लटक रही है। जिससे शिंदे गुट में तिलमिलाहट बढ़ गई है। ऐसी तीखी प्रतिक्रिया शिवसेना (उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के सांसद अनिल देसाई ने दी है। तीनों याचिकाओं पर गुरुवार को होने वाली सुनवाई पर विधानसभा अध्यक्ष 20 तारीख तक फैसला दे सकते हैं। ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है।

Advertisement

अनिल देसाई ने कहा कि इस मामले में सभी बिंदु पर हमारे वकील ने अपनी रखी हैं। हालांकि उनके पक्ष के वकील ने बहस या खंडन किए बिना प्रत्येक याचिका की अलग-अलग सुनवाई की मांग की। यह उनके द्वारा देरी कराने की नीति को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि जब कार्रवाई का कारण और घटना एक ही है तो अलग सुनवाई की मांग क्यों की जा रही है। इस घटना पर कानून के आधार पर हर पक्ष पर विचार कर बहस, प्रतिवाद किये जाने की उम्मीद है। लेकिन साफ दिख रहा है कि शिंदे गुट ऐसा किए बिना सिर्फ समय बर्बाद करने में रुचि ले रहा है।

मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री ध्यान दें तो बेघरों की समस्या का स्थाई समाधान हो जाएगा- अनिल गलगली

शिंदे गुट की ओर से की गई मांग कानूनई रूप से उचित नहीं है। चूंकि अयोग्यता की तलवार उनके सिर पर लटक रही है, इसलिए वे मामले को लंबा खींचने और समय बर्बाद करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर वे इस तरह की गड़बड़ी कर रहे हैं तो सुप्रीम कोर्ट को इस पर संज्ञान लेना चाहिए। साथ ही विधानसभा अध्यक्ष को भी ऐसे गंभीर विषय पर ध्यान देना चाहिए। अध्यक्ष ने उनसे इस बारे में सवाल भी पूछे। हालाँकि फिर भी वे लोग समय खींच रहे थे। जिसे देखते हुए अध्यक्ष से इस पर ध्यान देने की मांग की गई और सभी मामलों पर उचित निर्णय जल्द से जल्द देने की अपील की। शिंदे गुट की देरी को अध्यक्ष ने भी संज्ञान में लिया है। उन्हें इसकी जानकारी है इसलिए उन्हें इस मामले पर जल्द सुनवाई कर फैसला देना चाहिए। उन्होंने कहा कि न्याय में देरी न्याय न मिलने के समान है। इसे देखते हुए प्रदेश और देश के नागरिक इस पर जल्द फैसले की उम्मीद कर रहे हैं। अगर समय बर्बाद करने का इनका सिलसिला ऐसे ही जारी रहा तो उन्हें सुप्रीम कोर्ट में अपील करनी पड़ेगी।

Covid center scam: पूर्व मेयर किशोरी पेडनेकर के खिलाफ मामला दर्ज किया गया

Modi govt. 2.0 budget: चुनाव पर नजर, बजट पर दिखा असर, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा

Advertisement

Related posts

चंद सेकंड की दूरी पर खड़ी थी मौत: रेलवे क्रॉसिंग पर बंद बैरियर को तोड़ चलती ट्रेन के करीब पहुंचा ट्रक, कैमरे में कैद हुई दुर्घटना

cradmin

मुंबई के इन इलाकों में गुरुवार को रहेगी पानी की कटौती

Deepak dubey

बैन के बाद भी एक्टिव पीएफआई पनवेल में चल रही थी मीटिंग पर एटीएस की रेड

Deepak dubey

Leave a Comment