Joindia
कल्याणक्राइमठाणेदेश-दुनियामुंबईसिटी

आइसिस स्लीपर सेल का सदस्य भिवंडी से गिरफ्तार, आईईडी निर्माण में था शामिल, एनआईए की पुणे आइसिस मॉड्यूल मामले में छठवीं गिरफ्तारी

Advertisement

मुंबई। पुणे आइसिस मॉड्यूल(Pune Isis Module)   मामले में एक और सफलता हासिल करते हुए एनआईए ने शुक्रवार को भिवंडी से एक आरोपी को गिरफ्तार किया है । यह आरोपी पुणे से गिरफ्तार आइसिस आतंकियों के साथ आईईडी निर्माण में शामिल था । इस मामले में एनआईए द्वारा यह छठी गिरफ्तारी है। इसके पहले इसके पिता को भी गिरफ्तार किया गया था।

एनआईए ने पिछले सप्ताह भिवंडी के पड़घा से आइसिस से जुड़े आरोपी साकिब नाचन को गिरफ्तार किया था ।उससे पूछताछ और जांच के आधार पर उसके बेटे शमील नाचन को गिरफ्तार किया है । साकिब को आतंकवादी कृत्यों को अंजाम देने के लिए इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) के निर्माण, प्रशिक्षण और परीक्षण में शामिल पाया गया था। वह कुछ अन्य संदिग्धों के साथ पांच अन्य आरोपियों के साथ मिलकर काम कर रहा था, जिनकी पहचान जुल्फिकार अली बड़ौदावाला, मोहम्मद इमरान खान, मोहम्मद यूनुस साकी, सिमाब नसीरुद्दीन काजी और अब्दुल कादिर पठान के रूप में हुई है। दो आरोपी, इमरान खान और मोहम्मद यूनुस साकी, ‘सूफा आतंकवादी गिरोह’ के सदस्य थे । एनआईए ने उन्हें अप्रैल 2022 में राजस्थान में एक कार से विस्फोटकों की बरामदगी से संबंधित मामले में ‘मोस्ट वांटेड’ घोषित किया था।

आईईडी बम प्रशिक्षण में शामिल हुआ था शमील

शमील सहित आइसिस स्लीपर मॉड्यूल के ये सदस्य पुणे के कोंढवा में एक घर से काम कर रहे थे, जहां वे इकट्ठे हुए थे। पिछले साल आईईडी और बम प्रशिक्षण और निर्माण कार्यशाला का भी आयोजन किया गया था उसमे भाग लिया था। उन्होंने अपने द्वारा निर्मित आईईडी का परीक्षण करने के लिए इस स्थान पर एक नियंत्रित विस्फोट भी किया था। 3 अगस्त 2023 को आइसिस पुणे मॉड्यूल मामले में एनआईए द्वारा की गई जांच से पता चला है कि आरोपियों की देश की शांति और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने के उद्देश्य से आतंकवादी कृत्य करने की योजना थी। उन्होंने आइसिस के एजेंडे को आगे बढ़ाते हुए देश में युद्ध छेड़ने की योजना बनाई थी। आइसिस, जिसे इस्लामिक स्टेट (आईएस),इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड लेवंत (आईएसआईएल),इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एंड सीरिया (आईएसआईएस),इस्लामिक स्टेट इन खुरासान प्रोविंस (आईएसकेपी),आईएसआईएस विलायत खोरासन,इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक के नाम से भी जाना जाता है। और शाम खुरासान , हिंसक कृत्यों के माध्यम से देश भर में आतंक फैलाकर अपने भारत विरोधी एजेंडे पर काम कर रहा है। एनआईए भारत में आतंक और हिंसा फैलाने की आतंकवादी संगठन की योजनाओं को विफल करने के लिए व्यापक जांच कर रही है। इसी के तहत आज यह कार्रवाई की गई है ।

Advertisement

Related posts

मध्य रेलवे के रेलवे स्टेशनों पर आधार काउंटर

Deepak dubey

WHATSAPP: व्हाट्सएप पर इंटरनेशनल नंबर से हो जाए सावधान, साइबर ठग बना सकते है शिकार

Deepak dubey

राजस्थान का भरतपुर बना नया ‘जामताड़ा’, सायबर क्राइम के देशभर में 850 से ज्यादा मामले दर्ज

dinu

Leave a Comment