Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबई

Increase in garlic prices: बेमौसम बरसात से लहसुन के कीमतों मे उछाल  उत्पादन कम होने का असर 

Advertisement

मुंबई।(Increase in garlic prices) महाराष्ट्र मे बेमौसम बरसात के कारण लहसून के उत्पादन कम हुए जिससे कीमतों  में लगातार उछाल आ रहा है। खुदरा बाजार में लहसुन की कीमत 400 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गई हैं। जानकारों के मुताबिक, लहसुन की कीमतों में और उछाल देखने को मिल सकता है। मौसम की मार के चलते लहसुन की फसल खराब हुई है। इसका असर लहसुन के उत्पादन पर पड़ा है। इस खराब फसल की वजह से आपूर्ति में गिरावट आई है। महाराष्ट्र में अब मुंबई के थोक व्यापारी गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान से लहसुन खरीद रहे हैं। इससे रसद लागत और बाकी स्थानीय शुल्क बढ़ गए हैं। इसका असर लहसुन की कीमतों पर पड़ा है। लहसुन की कीमतों में बेतहाशा इजाफा हुआ है।

Advertisement

लहसुन की कम आपूर्ति के कारण पिछले कुछ हफ्तों में इसकी कीमत करीब दोगुना तक बढ़ चुकी है। व्यापारियों का अनुमान है कि स्थिति में जल्द सुधार नहीं होगा। अभी लहसुन की कीमतों में गिरावट के आसार नहीं हैं। वहीं उपभोक्ताओं को नए मूल्य स्लैब से भी परेशानी महसूस हो रही है, जो पिछले महीने एपीएमसी थोक यार्ड में 100-150 प्रति किलोग्राम के पिछले टैरिफ से 150-250 प्रति किलोग्राम पर बेचा जाता है। इस बदलाव ने खुदरा कीमत को अब 300 से 400 प्रति किलोग्राम तक पहुंचा दिया है।

आवक कम होने से कीमतों मे उछाल 

मौजूदा समय में थोक बाजार में प्रतिदिन 15-20 वाहन (ट्रक और मिनी वैन) आते हैं, जो 25 से 30 वाहनों की सामान्य आवक से कम हैं। वहीं दक्षिणी राज्यों से आवक भी काफी हद तक बंद हो गई है। इससे आपूर्ति की कमी बढ़ गई है। इनका असर लहसुन की कीमतों पर पड़ा है। लहसुन के भाव सातवें आसमान पर पहुंच गए हैं। एपीएमसी व्यापारियों के मुताबिक, ऊटी और मालापुरम से आपूर्ति में काफी गिरावट आई है, जिससे महंगाई बढ़ गई है। पिछले महीने की तुलना में कीमत इस सीजन के उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। इससे रसोई के बजट पर असर पड़ा है।

मुंबई एपीएमसी के व्यापारी भाऊसाहेब जगताप  के मुताबिक मानसून के दौरान अपर्याप्त वर्षा और बाद में बेमौसम बारिश की वजह से लहसुन का उत्पादन कम हुआ है। बताया कि इसके चलते उन्हें गुजरात, राजस्थान और मध्य प्रदेश से आपूर्ति पर निर्भर रहना पड़ रहा है। इससे भी लहसुन की कीमतें बढ़ रही हैं।व्यापारियों के मुताबिक, नई फसल को बाजार में आने में अभी समय लगेगा। ऐसे में तब तक कीमत ऊंची रहने की उम्मीद है। अक्टूबर और नवंबर में बेमौसम बारिश के कारण कई हिस्सों में फसल बर्बाद हो गई।

Onion prices drop in Apmc market: प्याज की कीमतों में गिरावट, एपीएमसी में आवक अधिक और मांग कम होने से कीमतों पर दिखा असर

Advertisement

Related posts

शिवसेना की याचिका पर दिल्ली हाई कोर्ट में आज सुनवाई

vinu

Navi Mumbai Journalists Welfare Association: ‘नहीं’ शब्द को शब्दकोश में रहने दो!, नवी मुंबई मनपा मुख्यालय में महिला पत्रकारों का सम्मान 

Deepak dubey

गले में मछली फंसने से 6 माह के बच्चे की मौत

Deepak dubey

Leave a Comment