Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

जेएनपीए बंदरगाह पर सड़ रहा प्याज; 200 कंटेनरों में रखा 4 हजार टन सड़ने लगा

Advertisement
Advertisement

उरण। प्याज निर्यात पर शुल्क बढ़ाने के फैसले के कारण दुबई, श्रीलंका और मलेशिया को निर्यात के लिए 200 कंटेनरों में रखा 4000 टन प्याज जेएनपीए बंदरगाह पर सड़ने लगा है. केंद्र सरकार ने प्याज निर्यात पर शुल्क 40 फीसदी बढ़ा दिया है. इसलिए जेएनपीए बंदरगाह पर आने वाले कंटेनरों को सीमा शुल्क विभाग ने रोक दिया है. निर्यात कंपनी स्वान ओवरहेड के मालिक राहुल पवार ने बताया कि चूंकि प्याज जल्दी खराब हो जाता है, इसलिए इससे व्यापारियों, किसानों और निर्यातकों को करीब 20 करोड़ का आर्थिक नुकसान होगा।

केंद्र सरकार ने अचानक प्याज निर्यात शुल्क शून्य से बढ़ाकर सीधे 40 फीसदी करने का फैसला लिया है. इस फैसले से व्यापारी, किसान, निर्यातक परेशानी में हैं. इसलिए प्याज के सैकड़ों कंटेनर निर्यात के लिए बंदरगाह के बाहर इंतजार कर रहे हैं. इसी तरह जेएनपीए बंदरगाह पर कई गोदामों में निर्यात के लिए इस तरह के आशा से भरे कंटेनर खड़े हैं.

 

निर्यातक और बच्चूभाई एंड कंपनी के मालिक इरफान मेनन ने बताया कि इस कंटेनर में प्याज सड़ने और नष्ट होने की कगार पर है, जिससे किसानों, निर्यातकों और व्यापारियों को आर्थिक नुकसान होगा. उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र द्वारा अचानक लिए गए फैसले से किसानों, निर्यातकों और व्यापारियों को आर्थिक नुकसान होगा. सरकार, सैकड़ों निर्यातक वित्तीय संकट में हैं।

Advertisement

Related posts

NMMC: एनएमएमसी ने  शहरभर  में विसर्जन स्थलों से 48 टन से अधिक निर्माल्य  किया एकत्रित 

Deepak dubey

नवी मुंबई मनपा क्षेत्र में 9096 मूर्तियों का हुआ विसर्जन

Deepak dubey

Sanjay Raut’s attack: मालेगांव के खटमल को मसलने के लिए तोप की नहीं है जरूरत!, शिवसेना संजय राऊत का जोरदार प्रहार

Deepak dubey

Leave a Comment