Joindia
राजनीतिरोचक

Rahul gandhi: एक सोची – समझी रणनीति के तहत राहुल गांधी की संसद की सदस्यता रद्द की गई।

Advertisement

कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul gandhi) की संसद सदस्यता को रद्द करने का फैसला बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। यह निर्णय कर्नाटक में 2019 की लोकसभा चुनाव के दौरान दिए गए एक बयान के संदर्भ में झूठी शिकायत दर्ज करके लिया गया है । पिछले कुछ दिनों से बीजेपी, राहुल गांधी की सांसदी को रद्द करने की कोशिश कर रही है. महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने हमला बोलते हुए कहा है कि एक सोची – समझी रणनीति के तहत केंद्र की बीजेपी सरकार ने राहुल गांधी की सांसदी को रद्द करने का फैसला लिया है । उन्होंने कहा कि यह सीधे तौर पर लोकतंत्र की हत्या है।
जैसे ही यह खबर आई की राहुल गांधी की सांसदी को रद्द कर दिया गया है। इससे महाराष्ट्र विधान मंडल के चल रहे बजट सत्र में हंगामा मच गया। महाविकास आघाड़ी ने इस फैसले का विरोध करते हुए विधानसभा का बहिष्कार किया और विधान भवन की सीढ़ियों पर काली पट्टी बांधकर मोदी सरकार की निंदा की । इस प्रदर्शन में प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले, विधानमंडल में कांग्रेस विधायक दल के नेता बालासाहेब थोरात, पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण, पृथ्वीराज चव्हाण, विपक्ष के नेता अजीत पवार, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष जयंत पाटिल, शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे समूह के नेता अजय चौधरी, समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अबू आज़मी समेत कई विधायक शामिल हुए ।

Advertisement

Mahadev jankar: हम स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ेंगे

मीडिया से बात करते हुए नाना पटोले ने आगे कहा कि पिछले 9 साल से केंद्र की मोदी सरकार नीरव मोदी, ललित मोदी, मेहुल चोकसी, विजय माल्या जैसे भ्रष्ट लोगों के लिए ही काम कर रही है जबकि राहुल गांधी देश को बचाने की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि कई भ्रष्ट उद्योगपति देश की जनता के करोड़ों रुपए हड़प कर देश छोड़कर भाग गए हैं। राहुल गांधी लगातार इस भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाते रहे हैं। लोकसभा में जब राहुल गांधी ने अदानी -मोदी के रिश्ते के बारे में पूछा तो पीएम मोदी और उनके मंत्रियों ने कोई जवाब नहीं दिया । कैंब्रिज विश्वविद्यालय में दिए गए बयान के लिए सत्ताधारी दल बीजेपी राहुल गांधी से माफी की मांग कर रहा था लेकिन हमारे नेता को लोकसभा में बोलने तक की अनुमति नहीं दी गई।

नाना पटोले ने कहा कि ब्रिटिश शासन के दौरान सरकार के खिलाफ बोलने पर कड़ी सजा दी जाती थी, उसी तरीके का व्यवहार आज भाजपा सरकार कर रही है । राहुल गांधी को जांच के नाम पर ईडी कार्यालय में 10 घंटे तक प्रताड़ित किया गया। अंत में, यह देखा गया कि जब राहुल गांधी भाजपा के इस तानाशाही रवैए के सामने नहीं झुकेंगे तो उनकी सांसदी को रद्द कर दिया गया । पटोले ने कहा कि हम भाजपा सरकार और मोदी सरकार की निंदा करते हैं और आने वाले दिनों में हम सड़कों पर उतरेंगे और भाजपा के खिलाफ और उग्र संघर्ष करेंगे।

Congress against Adani: अदानी को नहीं दिया जाए धारावी विकास परियोजना! कांग्रेस

इस मौके पर बोलते हुए कांग्रेस विधायक दल के नेता बालासाहेब थोरात ने कहा कि राहुल गांधी की सांसदी रद्द करने का फैसला लोकतंत्र पर हमला है । उन्होंने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के बाद भारतीय जनता पार्टी राहुल गांधी से और भी डरने लगी है। लोकसभा में राहुल गांधी ने अदानी -मोदी के रिश्ते का मुद्दा उठाया । जिस पर बीजेपी ने यह कार्रवाई की है। कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के बयान पर राहुल गांधी अपना पक्ष रखना चाहते थे लेकिन लोकसभा में उन्हें बोलने नहीं दिया गया । उनका माइक बंद कर दिया गया । यह इस बात का प्रमाण है कि देश लोकतंत्र से तानाशाही की ओर बढ़ रहा है।

Political news: उद्योग चले बाहर, बेरोजगारी बढ़ी सरकार… घर में गुढी बनाएं या पड़ोस में?

Advertisement

Related posts

जो अपने घर में मंगलसूत्र को गरिमा नहीं दे सकता, उसे दूसरों के मंगलसूत्र पर पंताइत करने की नहीं है जरूरत, संजय राऊत का मोदी पर जोरदार हमला

Deepak dubey

क्या सुप्रीम कोर्ट बचाएगा आज़ादी, लोकतंत्र और संविधान? सवाल करते हुए उद्धव ठाकरे गरजे

Deepak dubey

महाराष्ट्र में फोन टैपिंग का मामला: IPS रश्मि शुक्ला को बॉम्बे हाईकोर्ट से बड़ी राहत, 25 मार्च तक गिरफ्तारी पर लगी रोक

cradmin

Leave a Comment