Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

Kalwa’s old bridge work started: सफर होगा सुहाना, मैस्टिक पद्धति से होगा डांबरिकरण, पुराने कलवा पुल मरम्मतीकरण कार्य की शुरुवात

Advertisement
Advertisement

ठाणे। ठाणे बेलापुर मार्ग पर यातायात(Traffic on Thane Belapur Road) के लिए तैयार किए गए कलवा के पुराने पुल(old bridge of kalwa) का अगले एक माह के भीतर मैस्टिक तकनीक (Mastic Technique) से डामरीकरण (Asphaltization) किया जाएगा। यह पूरा पुल वर्तमान में पेवर ब्लॉक (paver block) से बना है, इसलिए हर साल बरसात के मौसम में इस पुल पर गड्ढे हो जाते हैं और यातायात की गति धीमी हो जाती है। पुल का डामरीकरण होने के बाद यह पुल नई मुंबई, कलवा, विटावा से ठाणे की ओर जाने वाले मोटर चालकों के लिए खुला कर दिया जाएगा। इसलिए आने वाले मानसून से पहले कलवा, विटावा के नागरिकों को जाम से मुक्ति मिल जाएगी।

बता दें कि कलवा का पुराना पुल ठाणे बेलापुर मार्ग पर यातायात के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। लेकिन प्रशासन ने इस पुल पर डामरीकरण की जगह पेवर ब्लॉक बना दिए थे। इसलिए हर साल बरसात के मौसम में इस पुल पर लगे पेवर ब्लॉक निकलकर गड्ढे बन जाते थे। इस मार्ग पर भारी ट्रैफिक जाम होता था और इसका असर कलवा, विटावा, दीघा, खारेगांव, सिडको, कोर्टनका, साकेत, राबोडी इलाकों पर पड़ रहा था। इस ट्रैफिक जाम से बचने के लिए ठाणे मनपा कुछ सालों से तीसरा बे ब्रिज बना रही है। हाल ही में इस नए पुल का काम पूरा हो गया है और इस पुल से साकेत, कोर्टनाका और सिडको से नई मुंबई, कलवा, विटावा की ओर यातायात की आवाजाही शुरू हो गई है। हालांकि पुराने पुल पर अभी भी कुछ वाहन चल रहे हैं। नया कलवा पुल बनने से कोर्टनाका, सिडको क्षेत्रों में जाम से नागरिकों को बड़ी राहत मिलेगी। इसलिए ठाणे मनपा ने पुराने कलवा पुल के पेवर ब्लॉक हटाकर मैस्टिक विधि से डामरीकरण करने का निर्णय लिया था। यह काम गुरुवार से शुरू हो गया है। करीब डेढ़ महीने में पुल के दोनों ओर के पेवर ब्लॉक को चरणबद्ध तरीके से हटाकर वहां डामरीकरण किया जाएगा। अगर यह काम पूरा हो जाता है तो इस रूट को नई मुंबई से ठाणे की ओर ट्रांसपोर्ट करने के लिए सिंगल मोड में शुरू कर दिया जाएगा। इस प्रकार कलवा, विटावा क्षेत्र में लगने वाले जाम से नागरिकों को मुक्ति मिलेगी।

ठाणे मनपा का छत्रपति शिवाजी महाराज अस्पताल कलवा में स्थित है। साथ ही, नई मुंबई क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय कंपनियों की स्थापना के साथ, ठाणे और आसपास के शहरों के हजारों नागरिक ठाणे-बेलापुर के रास्ते नई मुंबई जाते हैं। इससे कलवा, विटावा क्षेत्र में वाहनों का लोड बढ़ गया है। यदि इस पुराने पुल को अकेले चालू कर दिया जाए तो समस्या का समाधान हो सकता है। जाम में फंसने वाली एंबुलेंस की संख्या में भी कमी आएगी और अस्पताल में इलाज के लिए आने वालों को भी राहत मिलेगी।

Advertisement

Related posts

पिंपरी चिंचवाड़ की घटना: न सलाखे काटी, न ताला तोड़ा और लॉकअप से फरार हो गया आरोपी, पुलिसवालों को नहीं हुआ अपनी आंखों पर यकीन

cradmin

बाप ने बेटे को चूहा मारने वाली दवा पिलाकर की हत्या

Deepak dubey

CRIME: कृष्णानंद राय की हत्या के लिए मुंबई से बुलाए थे शूटर, मुख़्तार अंसारी ने मुन्ना बजरंगी को सौपी थी जिम्मेदारी

Deepak dubey

Leave a Comment