Joindia
कल्याणक्राइमठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

अत्याधुनिक ‘आई बाइक’ से अपराधियों पर नज़र

Advertisement

मुंबई। किसी भी अपराध के अपराधी को सजा दिलाने में साक्ष्य सबसे महत्वपूर्ण होता है ।कई बार सबूतों के अभाव में कोर्ट में अपराध साबित नही हो पाता है ।जिसके कारण सजा कम हो जाती है ।इसलिए नवी मुंबई पुलिस ने अब अपराधों की जांच के लिए अपराध स्थल से तुरंत और उचित तरीके से सबूत एकत्र करने के लिए ‘आई-बाइक’ संकल्पना आयुक्त मिलिंद भारंबे ने लागू की है।आई बाइक के इन दोपहिया वाहनों की वजह से गंभीर अपराधों की सूचना मिलने पर कम समय में घटना स्थल पर पहुंचना संभव होगा और सबूतों को सावधानीपूर्वक एकत्रित करने में फायदेमंद साबित होगा ।इस आई बाइक का उद्घाटन पुलिस महासंचालक के हाथो किया गया ।

अपराध स्थल पर सबूत इकट्ठा करते समय कई बार जल्दबाजी में पुलिस से गलतियां हो जाती हैं। इसलिए, यह संभावना है कि सबूतों के अभाव में आरोपी बच जायेंगे। कई बार सबूतों की कमी के कारण आरोपी तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है। इसलिए, अपराधों की जांच के लिए सबूत इकट्ठा करने और उन्हें उचित तरीके से संभालने के लिए नवी मुंबई पुलिस आयुक्तालय के हर पुलिस स्टेशन में ‘आई-बाइक’ लागू की गई है। बाइक एक किट बैग, डिजिटल कैमरा और अपराध स्थल पर सबूत इकट्ठा करने के लिए आवश्यक सभी प्रकार के उपकरणों और उपकरणों से सुसज्जित है। इसके अलावा, ‘आई बाइक’ के कारण होने वाले अपराध के बाद सबूतों को उचित तरीके से एकत्र किया जाएगा और उचित तरीके से निपटाया जाएगा।

एक आई बाइक पर दो पुलिसकर्मी रहेंगे तैनात

नवी मुंबई पुलिस बल में काम करने वाली जांच वैन हत्या, बलात्कार और घर में चोरी जैसे कई अपराधों के स्थानों पर जाकर अपराध को सुलझाने के लिए सबूत इकट्ठा कर चुकी है। हालाँकि कुछ अपराध स्थलों से साक्ष्य के लिए तत्काल चिकित्सा संग्रह की आवश्यकता होती है, लेकिन वैन के लिए हर स्थान पर तुरंत पहुँचना मुश्किल हो जाता है। इसे देखते हुए हर पुलिस स्टेशन की सीमा में ‘आई-बाइक’ लागू करने का निर्णय लिया गया है इसके लिए दो शिफ्ट में दो-दो पुलिसकर्मी तैनात किये गये हैं।

वैज्ञानिक तरीके से साक्ष्य जुटाए जाएंग

पुलिस महासंचालक रजनीश शेठ ने बताया कि किसी भी जांच में क्राइम सीन अहम भूमिका निभाता है। अपराध स्थल पंचनामा के लिए वैज्ञानिक रूप से भौतिक, रासायनिक, जैविक और परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के तत्काल संग्रह और संरक्षण की आवश्यकता होती है। इसी तरह घटना स्थल की तस्वीरें लेना और वीडियो रिकॉर्डिंग करना भी जांच प्रक्रिया का एक बहुत महत्वपूर्ण पहलू है।
कुछ मामलों में साक्ष्यों का व्यवस्थित संग्रह न होने के कारण जांच में दिक्कतें आती हैं। इससे पुलिस के लिए कई बार आरोपियों तक पहुंचना मुश्किल हो जाता है। कई मामलों में पुख्ता सबूतों की कमी का फायदा आरोपी को मिल जाता है। इसलिए उन्हें बरी किया जाता है। अब, मेडिकल साक्ष्य (वैज्ञानिक साक्ष्य) को अदालत द्वारा अधिक महत्व दिया जाने लगा है, इसलिए पुलिस बल के लिए वैज्ञानिक तरीके से साक्ष्य एकत्र करना बहुत जरूरी हो गया है।इसी को देखते हुए नवी मुंबई इसे शुरू किया गया है।

Advertisement

Related posts

संजय राउत की जमानत पर कल हो सकती है सुनवाई, स्पेशल PMLA कोर्ट में दायर की है याचिका

Deepak dubey

Suresh Dubey Murder विरार बिल्डर सुरेश दुबे हत्याकांड में भाई ठाकुर समेत तीन बरी

Deepak dubey

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने खारघर में सीजीएसटी अधिकारियों के आवासीय परिसर का किया उद्घाटन

Deepak dubey

Leave a Comment