Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

Information of disaster victims will be available on one click:एक क्लिक पर मिलेगी आपदा पीड़ितों की जानकारी, प्रशासन द्वारा संचालित ‘डैड कार्ड’ सॉफ्टवेयर का निर्माण

Advertisement

मुंबई ।(Information of disaster victims will be available on one click

Advertisement
)राज्य में सबसे ज्यादा 40 फीसदी पहाड़ी इलाका रायगढ़ जिले में पड़ता है। इस आपदा में सैकड़ों निर्दोष नागरिक अपनी जान गंवा रहे हैं। ऐसे में जिला प्रशासन इसके लिए कदम उठाने में जुट गया है । जिले में 20 स्थान बेहद खतरनाक हैं। वहां कितनी आबादी है, पुरुष, महिला, बच्चे, आधार कार्ड समेत अन्य बुनियादी जानकारी जुटाई जाएगी।इसके लिए डैड कार्ड (आपदा मूल्यांकन डेटा) एक सॉफ्टवेयर विकसित किया जा रहा है। इसलिए आपदा पीड़ितों की जानकारी एक क्लिक पर उपलब्ध होने की जानकारी कलेक्टर डॉ. योगेश म्हसे ने दी है ।

जुलाई 2005 में रायगढ़ जिले के जुई, दासगांव और कोंडीवेट गांवों में भूस्खलन हुआ, जिसमें 210 से अधिक नागरिक मारे गए। बाद में जुलाई 2021 में तलिये, साखर सुतारवाड़ी और केवनाले में भूस्खलन हुआ, यह अभी भी जारी भी है। 110 से ज्यादा नागरिकों की जान चली गयी. तो 19 जुलाई को इरशालवाड़ी में भूस्खलन के कारण 27 लोगों की मौत हो गई। 57 लोग लापता हैं।उन्हें मृत घोषित करने की प्रक्रिया चल रही है। इस स्थान पर कितने और कौन लोग रहते थे, इसकी जानकारी प्रशासन स्तर पर संख्याएँ मेल नहीं खातीं। डैड कार्ड के कारण अब विश्वसनीय जानकारी प्रशासन के पास रहेगी। इसलिए, यदि कोई आपदा आती है तो तुरंत जानकारी मिलने में मदद होने की जानकारी डॉ. योगेश म्हसे ने दी ।

सभी बुनियादी जानकारी होगा संग्रह

जिले में 20 गांव उच्च जोखिम वाले हैं, जबकि 83 गांव कम जोखिम वाले हैं। इस जगह पर कितने लोग, कितने परिवार रहते हैं। उसकी उम्र, शिक्षा, आधार, राशन, वोटिंग कार्ड, वाहन, पुरुष, महिला, बच्चे, उसकी शादी कहां हुई, कितने जानवर हैं जैसी बुनियादी जानकारी डैड कार्ड के माध्यम से एकत्र की जाएगी। किसकी मदद करनी है यह पहले से तय किया जा सकता है।डैड सॉफ्टवेयर को तत्काल विकसित करने के लिए एक निजी संस्था की मदद ली जाएगी। प्राकृतिक आपदा आने पर कितने परिवार और व्यक्ति एक स्थान पर फंस जाते हैं। चूंकि यह जानकारी उपलब्ध नहीं है इसलिए सरकार और प्रशासन यह अनुमान नहीं लगा सकता कि क्या और कैसे मदद की जाए। यदि प्रशासन के पास यहां के नागरिकों के बारे में जानकारी है तो उन्हें तत्काल क्या सहायता प्रदान की जानी चाहिए। यह पहले से तय किया जा सकता है।

ठाणे के शाहपुर में लग्जरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 34 यात्री घायल

Advertisement

Related posts

MUMBAI ENTRY POINT: टोल का झोल 2027 तक रहेगा जारी! कोस्टल रोड पर भी टोल का विचार, ५५ पुलों के निर्माण खर्च का तिगुना वसूली

Deepak dubey

Alia bhatt: निजी तस्वीरें लीक होने से परेशान हुईं आलिया

Neha Singh

Vande matram express: वंदे भारत का गंदा खाना, लोगों का फूटा गुस्सा, सोशल मीडिया पर शिकायतों का अंबार

Deepak dubey

Leave a Comment