Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियामुंबईराजनीति

Government medical College: पैंतरे पर पैंतरा चल रही घाती सरकार सरकारी मेडिकल कॉलेजों में ठेके पर सेवा दे रहे

Advertisement

प्रोफेसर और एसोसिएट प्रोफेसर को किया खुश

मानधन में किया गया दोगुना वृद्धि

मुंबई। लोकसभा के चुनाव(Lok Sabha elections)की घोषणा किसी समय भी हो सकती है। ऐसे में सभी दल अपने-अपने स्तर पर तैयारियां शुरू कर दी हैं। दूसरी तरफ गद्दार गुट के सहयोग से बनी घाती सरकार की किसी न किसी मुद्दे को लेकर जनता में जमकर किरकिरी हो रही है। हालांकि अपने छवि को सुधारने के लिए यह सरकार कई तरह के तरीकों को अपना रही है। इसके तहत सभी को खुश करने के लिए काफी समय से कई योजनाओं को लागू कर रही है। इसी बीच अब सरकारी मेडिकल कॉलेजों में ठेके पर सेवा दे रहे प्रोफेसरों और एसोसिएट प्रोफेसरों को खुश करने की कोशिश किया गया है। इसके तहत प्रोफेसरों और एसोसिएट प्रोफेसरों के मानधन में दोगुना वृद्धि की गई है। ऐसे में अब इनका वेतन एक लाख रुपए से अधिक होगा।
राज्य के सरकारी मेडिकल कॉलेजों और डेंटल कॉलेजों में प्रोफेसरों के साथ ही एसोसिएट प्रोफेसरों के पद सेवानिवृत्ति, स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति, पदोन्नति, इस्तीफा और इसी तरह के अन्य कारणों से खाली हो जाते हैं। दूसरी तरफ कई बार नियमित आधार पर रिक्तियों को भरने में देरी हो जाती है। इस कारण रोगी देखभाल और शैक्षिक कार्यों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है और इनसे जुडी सेवाएं बाधित हो जाती हैं। इसलिए प्रोफेसरों और एसोसिएट प्रोफेसरों को ठेका के आधार पर अस्थाई रूप से नियुक्त किया जाता है, ताकि मरीजों और छात्रों पर कोई प्रभाव न पड़े। ठेका के आधार पर नियुक्त एसोसिएट प्रोफेसरों को 40,000 रुपए प्रति माह और प्रोफेसरों को 50,000 रुपए प्रति माह का भुगतान किया जाता है। हालांकि कई सालों तक इनके वेतन में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई थी।

इस तरह बढेगा मानधन का स्लैब

रेजिडेंट डॉक्टरों को एसोसिएट प्रोफेसरों और प्रोफेसरों की तुलना में अधिक पारिश्रमिक मिल रहा था, जिसे बढाए जाने की मांग लंबे समय से हो रही थी। इसलिए राज्य के विभिन्न सरकारी अस्पतालों में ठेके पर कार्यरत प्रोफेसर और एसोसिएट प्रोफेसर के वेतन को दोगुना करने का निर्णय लिया गया है। इसके अनुसार, डेंटल और मेडिकल कॉलेजों में प्रोफेसरों का पारिश्रमिक 50 हजार रुपए से बढ़ाकर 1 लाख 20 हजार रुपए और एसोसिएट प्रोफेसरों का पारिश्रमिक 40 हजार रुपए से बढ़ाकर 1 लाख 10 हजार रुपए कर दिया गया है। हालांकि, राज्य सरकार की ओर से यह स्पष्ट कर दिया गया है कि ठेका के आधार पर शिक्षकों को कोई अन्य भत्ता नहीं मिलेगा।

Advertisement

Related posts

Farming ruined due to rain: बेमौसम बरसात का फल-सब्जी और फसल की कीमतों पर पड़ेगा बुरा असर

Deepak dubey

मुंबई में प्रदूषण के लिए मिंधे मुख्यमंत्री और बिल्डर लॉबी जिम्मेदार, आदित्य ठाकरे का जोरदार हमला

Deepak dubey

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत मनपा द्वारा सिर्फ एक ही स्कूल पर कार्रवाई की गई

Deepak dubey

Leave a Comment