Joindia
कल्याणक्राइमठाणेदेश-दुनियामुंबईसिटी

CRIME: रात मे रिक्शा सवारी महिलाओ के लिए हुई असुरक्षित, डोंबिवली मे महिला यात्री के साथ जबरन बलात्कार की कोशिश ,पुलिस की सतर्कता से बची

Advertisement

डोंबिवली। (CRIME)भगवान के दर्शन कर अपने घर पहुंच रही एक महिला के साथ रिक्शा सवार दो लोगों ने छेड़छाड़ की कोशिश की; लेकिन जैसे ही उसकी किस्मत मजबूत हुई, पुलिस के रूप में भगवान उसकी मदद के लिए दौड़ पड़े। पुलिस की सतर्कता के कारण अगली बका घटना उसके साथ नहीं घटी।

Advertisement

ये घटना डोंबिवली में एक महिला के साथ घटी। इससे पहले भी ठाणे, कल्याण, उल्हासनगर इलाके में रिक्शा में महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाएं हो चुकी हैं। इन घटनाओं से यह बात सामने आ रही है कि उनका रात का सफर कितना असुरक्षित है।

कहने की जरूरत नहीं कि ठाणे शहर से जुड़ा कल्याण-डोंबिवली शहर अब 24 में से 22 घंटे जाग रहा है। हालाँकि, दिन में 22 घंटे काम करने वाले इस शहर में आज भी महिलाओं के लिए रात में यात्रा करना असुरक्षित है। शहर से सटे कल्याण शील रोड के किनारे ग्रामीण इलाकों में बड़े हाउसिंग प्रोजेक्ट आ रहे हैं।

हालाँकि, बढ़ते शहरीकरण के लिए शहर में सार्वजनिक परिवहन सुविधाएँ उपलब्ध नहीं हैं। यहां केडीएमटी परिवहन सेवा बोझ रहित है और यात्री टीएमटी और एनएमएमटी बसों से यात्रा करते हैं; लेकिन यह बताना संभव नहीं है कि रात में ये गाड़ियां भी समय पर पहुंचेंगी या नहीं, इसलिए यात्री रिक्शा का विकल्प अपनाते हैं।

चूंकि महिला सुरक्षा का मुद्दा उठाया जा रहा है, इसलिए रिक्शा चालकों के लिए अपनी जानकारी रिक्शे पर लिखना अनिवार्य कर दिया गया है। इसे केवल कुछ वर्षों के लिए लागू किया गया था। उसके बाद स्थिति फिर ‘जैसी थी’ वैसी ही हो गई।

पिछले साल ठाणे में एक घटना हुई थी जहां एक रिक्शा चालक ने एक लड़की के साथ छेड़छाड़ की और उसे खींचकर ले गया। इसके बाद पालकमंत्री शंभू राजे देसाई ने पुलिस आयुक्तालय को कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया। आगे उसका क्या हुआ? पुलिस की संख्या अपर्याप्त होने के कारण गश्त बढ़ाना पुलिस के लिए संभव नहीं है। इसके चलते शहर में अपराध दर बढ़ रही है। शहरीकरण बढ़ने के साथ-साथ पुलिस स्टेशन पर दबाव भी बढ़ता जा रहा है।

लाउडस्पीकर विवाद पर शिवसेना और एनसीपी का राज पर हमला: संजय राउत बोले-वे बीजेपी की स्क्रिप्ट पढ़ रहे हैं, अजित पवार ने कहा-गिरगिट की तरह रंग बदलते हैं राज ठाकरे

Advertisement

Related posts

Railway:238 एसी लोकल ट्रेन का नही है अता पता, मात्र १४ एसी लोकल ट्रेन दे रही है दोनो लाइनों पर सेवा, यात्रियों की बढ़ी मांग का सरकार पर नही है कोई असर

Deepak dubey

मुंबई में काबू में नहीं आ रहीं बीमारियां, जीका ने भी डराया बढ़े डेंगू , मलेरिया और चिकनगुनिया के मरीज

Deepak dubey

नराधम ‘लव-जिहादियों’ को रोकने के लिए राज्य में कठोर एवं स्वतंत्र कानून बनाएं ! लव जिहादी आफताब को फांसी पर लटकाएं ! ‘रणरागिनी’की मांग

Deepak dubey

Leave a Comment