Joindia
इवेंटकल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईराजनीतिसिटी

Modi’s degree is fake or his ego is coming in the way, Arvind Kejriwal attacks: गुजरात न्यायालय के आदेश से संदेह बढ़ा, मोदी की डिग्री नकली है या फिर, उनका अहंकार आड़े आ रहा है, अरविंद केजरीवाल का हमला

Advertisement

मुंबई। क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime minister narendra modi) के पास वाकई डिग्री है? अगर ऐसा है तो वे इसे क्यों नहीं दिखाते? गुजरात कोर्ट (Gujarat Court) के आदेश ने उनकी डिग्री को लेकर संदेह पैदा कर दिया है। या तो प्रधानमंत्री मोदी की डिग्री फर्जी है या फिर उनका अहंकार आड़े आ रहा है। ऐसा संदेह भरा सवाल उठाते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल(Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal) ने पीएम मोदी पर जोरदार हमला बोला है।

Advertisement

बतादें गुजरात हाई कोर्ट ने मोदी से डिग्री का विवरण       (Modi’s degree details) मांगने पर दिल्ली के सीएम केजरीवाल पर 25 हजार रुपये का जुर्माना (25 thousand rupees fine)लगाया है और आदेश दिया है कि प्रधानमंत्री मोदी के डिग्री व सर्टिफिकेट की जानकारी किसी को न दी जाए। इस संबंध में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की और मोदी की शैक्षणिक योग्यता (Educational qualification) पर सवाल उठाया।

– जनता को देश के प्रधानमंत्री की शैक्षणिक योग्यता जानने का अधिकार है, लेकिन कोर्ट के फैसले से जनता चकित हो गई है। केजरीवाल ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में जानकारी हासिल करने और सवाल पूछने की आजादी होनी चाहिए।

– अनपढ़ होना कोई ‘अपराध या पाप’ नहीं है। क्योंकि देश में बहुत गरीबी है। पारिवार के आर्थिक स्थिति के कारण हममें से बहुत से लोग औपचारिक शिक्षा प्राप्त करने की स्थिति में भी नहीं हैं। उन्होंने यह भी कहा कि आजादी के 75 साल बाद भी देश में गरीबी का साया मंडरा रहा है।

अमित शाह ने दिखाई डिग्री, मोदी क्यों नहीं दिखा रहे?

केजरीवाल ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात विश्वविद्यालय या दिल्ली विश्वविद्यालय से पढ़ाई की होती तो उन्हें इसका हर्ष होना चाहिए, इसके बजाय वह जानकारी छिपा रहे हैं। केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने अपनी डिग्री दिखाई है। केजरीवाल ने पूछा है कि अगर मोदी की डिग्री वैध है तो मोदी या गुजरात विश्वविद्यालय इसे क्यों नहीं दिखा रहे हैं?

अगर मोदी पढ़े- लिखे होते तो नोटबंदी नहीं करते,
केजरीवाल ने कहा कि अगर पीएम पढ़े- लिखे होते तो अधिकारी लोग कहीं भी आकर उनके हस्ताक्षर ले लेते। केजरीवाल ने आगे कहा कि उनसे कुछ भी अधिकारी मंजूर करवा लें रहे हैं और वे कर रहे हिम। अगर वे पढ़े लिखे होते तो नोटबंदी, जीएसटी जैसे फैसलों को नहीं लागू करते आज उन फैसलों ने अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया है। केजरीवाल ने कहा कि अगर प्रधानमंत्री मोदी शिक्षित होते तो नोटबंदी लागू नहीं करते।

कुछ लोगों ने मेरी बदनामी के लिए सुपारी दी है-मोदी

-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक सार्वजनिक कार्यक्रम में बोलते हुए आरोप लगाया कि देश के अंदर और बाहर कुछ लोगों ने मेरी छवि खराब करने की कोशिश शुरू कर दी है। भोपाल- दिल्ली वंदे भारत एक्सप्रेस ट्रेन को हरी झंडी दिखाने के बाद एक सभा को संबोधित करते हुए मोदी बोल रहे थे।

Advertisement

Related posts

जानिए, क्या है कोलन कैंसर, किसे होती है यह बीमारी

vinu

नवी मुंबई मेट्रो का मुहूर्त फिर बदला , प्रधानमंत्री का 30 अक्टूबर का दौरा रद्द !

Deepak dubey

शिंदे के ओएसडी को नक्सलियों से मिली जान से मारने की धमकी

Deepak dubey

Leave a Comment