Joindia
देश-दुनियाफिल्मी दुनियामुंबईरोचकसिटी

मुंबई से मंडवा वॉटर टैक्सी @ 400 रुपए

Advertisement
Advertisement
मुंबई में एक बार फिर वॉटर टैक्सी सेवा शुरू होने जा रही है। एक नवंबर से मुंबई क्रूज टर्मिनल से मांडव के बीच वॉटर टैक्सी शुरू हो रही है।मात्र 45 मिनट में यह टैक्सी मंडवा पहुंचाएगी। बुकिंग भी शुरू हो गई है। वॉटर टैक्सी सेवा का किराया 400 रुपए रखा गया है।
मौजूदा समय में बेलापुर से जेएनपीटी, एलिफेंटा के बीच वॉटर चल रही है। मुंबई क्रूज टर्मिनल से सेवा शुरू करने की अनुमति मिलने के करीब छह महीने बाद नयनतारा शिपिंग कंपनी ने मुंबई से मांडवा के बीच वॉटर टैक्सी सेवा शुरू करने की घोषणा की है।
जल मार्ग के जरिये यात्रियों को यातायात का एक और विकल्प उपलब्ध करवाने के लिए फरवरी 2022 में धूमधाम से वॉटर टैक्सी सेवा की शुरुआत की गई थी। क्रूज टर्मिनल के करीब यात्रियों के लिए बेहतर कनेक्टिविटी की सुविधा नहीं होने की वजह से वॉटर टैक्सी कंपनियों ने मुंबई से सेवा शुरू करने से मना कर दिया था।
200 यात्रियों की क्षमता
मुंबई से मांडवा के बीच जल मार्ग से सफर करने के लिए यात्रियों को 400 रुपये खर्च करने होंगे।नयनतारा शिपिंग कंपनी के डायरेक्टर रोहित सिन्हा के अनुसार, वॉटर टैक्सी में यात्रियों की सुविधा का पूरा ख्याल रखकर जहाज का निर्माण किया गया है। जहाज के माध्यम से एक साथ करीब 200 यात्री सफर कर सकेंगे। जल यातायात के दौरान यात्रियों का सफर कूल रहे, इसके लिए जहाज में एसी की भी व्यवस्था की गई है।
गेट वे ऑफ इंडिया से सेवा
वॉटर टैक्सी की सेवा जल्द ही गेट वे ऑफ इंडिया से भी उपलब्ध होगी। मौजूदा समय में उनको क्रूज टर्मिनल से मांडवा के बीच सेवा शुरू करने की अनुमति मिली थी। प्रशासन की तरफ से आगामी 10 से 15 दिन में गेट वे ऑफ इंडिया से भी वॉटर टैक्सी सेवा शुरू करने की अनुमति प्राप्त हो जाएगी। तब गेट वे ऑफ इंडिया से बेलापुर व एलिफेंटा के बीच सेवा उपलब्ध होगी।
Advertisement

Related posts

Controversy over offering Namaz in school: हिन्दू स्कूल मे नमाज बजाने विवाद, कांदिवली के कपोले विद्यानिधि स्कूल के खिलाफ अभिभावकों में भारी रोष

Deepak dubey

3 सेकेंड के फासले पर थी मौत: ठाणे में जान देने ट्रेन की पटरियों पर कूदा युवक, देवदूत बन जीआरपीकर्मी ने ऐसे बचाई जान

cradmin

आजादी के बाद हमें वह इतिहास पढ़ाया गया जो गुलामी के कालखंड में साजिशन रचा गया था:प्रधानमंत्री

Deepak dubey

Leave a Comment