Joindia
देश-दुनियामुंबईरोचकसिटी

75 प्रतिशत आग की घटनाएं खराब वायरिंग से हुई

महानगर मुंबई में पिछले कुछ वर्षों में आगजनी की घटनाएं आम होते नजर आ रही है। जिसे लेकर मनपा के माथे पर अब लकीर खींचने लगी है। महानगर में 75 प्रतिशत से अधिक आग की घटना की वजह सिर्फ शार्टसर्किट है। इसमें भी सबसे अधिक इमारतों में शॉर्टसर्किट के चलते आगजनी हुई है। इस शार्टसर्किट ने मनपा की चिंताएं बढ़ा दी है। इस चिंता के निवारण के लिए मनपा लोगों में जनजागृति करना चाहती है। मुंबईकरो के साथ चर्चा कर मनपा जानना चाहती है कि यह आग कब बुझेगी? कैसे बुझेगी ?
इमारतों में भी शार्टसर्किट के मामले बढ़े
मनपा के फायर विभाग की ओर से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार मुंबई में पिछले 5 वर्षों में 20 हजार से ज्यादा आग लगने को घटना का मुख्य कारण शार्टसर्किट है। घरों में या सोसायटियों में खराब किस्म के बिजली के तार अथवा खुले में तार के इस्तेमाल से ऐसी घटनाएं हुई है। इनमें 1500 इमारतों में सिर्फ शार्टसर्किट के चलते आग लगी, और बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। इसके पीछे एक ही वजह है कि गलत तरीके से की गई वायरिंग। इसके लिए प्रशिक्षित लेबर से काम कराना और इंजीनियर से जांच जरूरी है।
लोग समझदार हो जाएं आज की घटना कम हो जाए
फायर विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि मुंबई में आग की घटनाओं को लेकर लगातार लोग मनपा पर आरोप लगा रहे हैं लेकिन लोग थोड़ा समझदार और सतर्क हो जाएं तो यहां आग की घटनाओं में बड़े पैमाने पर कमी लाई जा सकती हैं। लगभह 50 प्रतिशत से अधिक आग की घटनाएं कम हो जाएंगी। अधिकारी ने कहा कि शार्टसर्किट के अलावा गैस ब्लास्ट, व अन्य आग के कारणों पर भी लोगों की लापरवाही ही मुख्य वजह होती है।
हाइराइज इमारतों की आग रोकने के लिए संसाधन नहीं
अग्नि सुरक्षा विशेषज्ञ संदीप सोलंकी ने बताया कि मुंबई ने पिछले कई वर्षों से बहुत विकास किया है। यहां बनी हाइराइज इमारतों ने तो मनपा की समस्या बढ़ा दी है। मनपा के पास हाइराइज इमारतों पर एक सीमा के बाद आग को रोकने के लिए संसाधन नहीं हैं। करीरोड के वन एवेन्यू हाईराइज इमारत में आग की घटना के समय ही साफ हो गया था 20 मंजिला के बाद मनपा के पास आग रोकने की कोई व्यवस्था नहीं है। ड्रोन से सिर्फ स्थित को देखा जा सकता है ना कि आग को कंट्रोल किया जा सकता है।

Related posts

डॉन एजाज लकड़ावाला पर शिकंजा: मुंबई के व्यापारी से 2 करोड़ की फिरौती मांगने का आरोप, वकोला पुलिस स्टेशन में दर्ज हुआ केस

cradmin

वाराणसी से मुंबई में कफ सिरप की तस्करी एनसीबी ने किया अंतराज्यीय ड्रग कार्टेल का भंडाफोड़ मुख्य आरोपी सहित पांच गिरफ्तार 13248 बोतल किए जब्त मुंबई | प्रतिबंधित कोडीन आधारित कफ सिरप की तस्करी करने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ मुंबई एनसीबी ने किया | इस गिरोह के मुख्य सरगना सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर 13 हजार 248 कफ सिरप की बोतल बरामद की हैं | विशेष की इसे वाराणसी से पुणे ट्रेन से भेजकर मुंबई के अलग अलग भागों में तस्करी जा रही थी | पिछले कुछ वर्ष से प्रतिबंधित कोडीन आधारित कफ सिरप का इस्तेमाल किया जा रहा है | इसके लिए तस्करो द्वारा कई हथकंडे अपनाए जा रहे है | मुंबई एनसीबी को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग उत्तर प्रदेश के वाराणसी से ट्रेन के माध्यम से पुणे कोडीन कफ सिरप की तस्करी किया जा रहा है | इस जानकारी के आधार पर एनसीबी ने 13 हजार 248 कफ सिरप की बोतल बरामद करते हुए मुख्य आरोपी सहित पांच तस्करों को गिरफ्तार किया गया | तस्करी के लिए फर्जी दस्तावेज का इस्तेमाल एनसीबी की जांच में खुलासा हुआ है कि आरोपी कफ सिरप की खेप मूल रूप से उत्तर प्रदेश के वाराणसी से नकली पते और फर्जी दस्तावेजों के आधार पर मुगलसराय स्टेशन से महाराष्ट्र के पुणे लाई जाती थी । उसके बाद अलग-अलग माध्यम से स्थानीय तस्करों के जरिए इसे मुंबई सहित राज्य के अलग अलग जगहों पर भेजा जाता था | एनसीबी सूत्रों की माने तो गिरफ्तार मुख्य सरगना का मुंबई में मेडिकल की दुकान है |लेकिन इसकी भनक इस गिरोह के किसी भी सदस्य को नहीं लगने दी है | इस गिरोह के जुड़े सदस्य भी मुख्य सरगना को नहीं पहचानते थे | सिर्फ व्हाट्सप्प या अन्य सोशल माध्यम से संपर्क में रहते हुए इस तस्करी को अंजाम दे रहे थे |इस गिरोह के पांच लोगो को गिरफ्तार किया जा चूका है कुछ और लोगो की गिरफ़्तारी होने की संभावना जताई जा रही है |

Deepak dubey

श्री रामायण यात्रा’ ट्रेन की तर्ज पर अयोध्या और वाराणसी के लिए विशेष ट्रेन शुरू करने की मांग

Deepak dubey

Leave a Comment