Joindia
कल्याणठाणेमुंबईराजनीतिसिटी

क्या संभाजी भिड़े को दिए महापुरुषों का अपमान करने का लाइसेंस :नाना पटोले

Advertisement

मुंबई। मनोहर कुलकर्णी उर्फ संभाजी भिडे रोजाना कई महान व्यक्तियों का लगातार अपमान कर रहे हैं लेकिन भाजपा सरकार इस पर कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी , महात्मा ज्योतिबा फुले , सावित्रीबाई फुले , साईबाबा के बारे में आपतिजनक बयान दिए जाने के बावजूद भिड़े खुलेआम घूम रहे हैं। क्या बीजेपी ने संभाजी भिड़े को महापुरुषों का अपमान करने का लाइसेंस दे दिया है ? यह सुलगता सवाल महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष नाना पटोले ने राज्य सरकार से पूछा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी भिड़े की गिरफ़्तारी की की मांग पर कायम है।

Advertisement

बुधवार को विधान भवन परिसर में मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी सरकार संभाजी भिड़े का समर्थन कर रही है । उपमुख्यमंत्री देवेन्द्र फड़णवीस संभाजी भिड़े को गुरुजी कहकर संबोधित कर रहे हैं ।भिड़े को पुलिस ने सुरक्षा भी दी है। क्या सत्तारूढ़ भाजपा को लगता है कि भिड़े इतना बड़ा आदमी है कि उन्हें इतना महत्व दिया जाना चाहिए। संभाजी भिड़े के जिन सहयोगियों को धारकरी कहा जाता है वे हैं पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण और पूर्व मंत्री यशोमति ठाकुर को जान से मारने की धमकी दी है । लोगों को मारना कैसा हिंदुत्व है। क्या इस तरह का हिंदुत्व फड़णवीस को स्वीकार्य है ? हिंदुत्व के नाम पर भाजपा के खाने के दांत और दिखाने के दांत अलग-अलग हैं।

पटोले ने कहा कि महाराष्ट्र शिव , शाहू , फुले और आंबेडकर की सोच की भूमि है। लेकिन बीजेपी इस राज्य में संभाजी भिड़े जैसे लोगों को आगे कर माहौल खराब करने की कोशिश कर रही है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने दोहराया कि क्या बीजेपी महाराष्ट्र को भी मणिपुर जैसा राज्य बनाना चाहती है। नाना पटोले ने यह भी कहा कि भले ही बीजेपी राज्य के लोगों को भड़काने की कोशिश कर रही हो, लेकिन वे ऐसी साजिश का शिकार नहीं होंगे ।

भाजपा सरकार और प्रशासन की फिजूलखर्ची के कारण ‘बेस्ट ‘ कामगारों को सड़कों पर उतरना है।

पत्रकारों ने जब बेस्ट कर्मचारियों की हड़ताल को लेकर सवाल पूछा तो नाना पटोले ने कहा कि जी-20 सम्मेलन के नाम पर मुंबई शहर में बड़ी सजावट की गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी-बड़ी तस्वीरें लगाई गईं। नाले का पानी दिखाई न दे इसके लिए बड़े-बड़े पर्दे लगाए गए और सड़क पर लाइटें लगाई गईं। इस सजावट पर करोड़ों रुपए बर्बाद किए गए हैं। ऐसी रिपोर्ट है कि सौंदर्यीकरण के नाम पर 3 हजार 500 करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। सरकार और प्रशासन जनता का पैसा G20 पर तो बर्बाद करना चाहती है लेकिन कर्मचारियों को नहीं देना चाहती, इसीलिए आज बेस्ट कर्मचारियों के सामने सड़कों पर उतरने का समय आ गया है।

Advertisement

Related posts

बीमा कर्मियों ने लगाया असंवेदनशीलता का आरोप,27 जुलाई से दो दिवसीय हड़ताल, 58 हजार से अधिक कर्मचारी हड़ताल में होंगे शामिल

Deepak dubey

अभी जारी रहेगा बेमौसम बारिश का कहर, कुछ दिन और होती रहेगी बरसात, कई जिलों में येलो अलर्ट

Deepak dubey

RBI अधिकारी पर कांच की बोतल से हमला; बोरीवली में मामला दर्ज

Deepak dubey

Leave a Comment