Joindia
क्राइमकल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबईसिटी

MUMBAI: हसीना पारकर के सपने साकार करने में जुटा था सलीम फ्रूट ,दाऊद के इशारे बनाई थी गैंग

Advertisement

वसूली के कामो को दे रहा था अंजाम

Advertisement

मुंबई | हसीना पारकर के सपने को साकार करने के लिए सलीम कुरैशी उर्फ़ सलीम फ्रूट ने गैंग बनाई थी | इसके लिए हसीना के भाई गैंगेस्टर दाऊद इब्राहिम पूरी तरह से मदद कर रहा था | दाऊद के इशारे पर ही सलीम वसूली के कामो को अंजाम दे रहा था | इसका खुलासा एनआईए ने एनआईए विशेष कोर्ट में किया है |

एनआईए ने कुरैशी को और हिरासत में लेने के लिए कोर्ट को बताया कि उनके पास इस बात के सबूत हैं कि फ्रूट उसी रास्ते पर चल रहा था जिस रास्ते पर हसीना पारकर चल रही थी । वह पारकर द्वारा छोड़े गए काम को पूरा कर रहा था।साथ ही, एनआईए ने दावा किया कि वह संपत्तियों को हड़पने और सोने और अन्य कीमती सामानों की तस्करी में शामिल था। यह दाऊद इब्राहिम गिरोह की आतंकवादी गतिविधियों को निधि देने के लिए किया गया था एनआईए ने कहा कि पैसा डी-गिरोह के गुर्गो को भेजा गया था। एनआईए ने कहा कि छोटा शकील भारत में दाऊद गिरोह के मुख्य संचालन को संभाल रहा था और कुरैशी सीधे शकील से संपर्क में था। कुरैशी ने कई मौकों पर पाकिस्तान की यात्रा की है और जब उनसे पासपोर्ट मांगा गया तो उनके परिवार ने सहयोग नहीं किया। हमने पासपोर्ट विभाग से संपर्क किया है लेकिन अभी तक उसके पासपोर्ट और विदेश यात्राओं का ब्योरा नहीं मिला है।
एनआईए ने कहा कि उसकी यात्राओं का उद्देश्य स्पष्ट था कि वह शकील से मिलना चाहता था और गिरोह के लिए आगे की गतिविधियों को अंजाम देना चाहता था। सलीम फ्रूट के वकील विकास राजगुरु ने आरोपों से इनकार किया और कहा कि कुरैशी का पारकर के साथ कोई संबंध नहीं था। जांच एजेंसी 3 फरवरी को भगोड़े गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम, उसके भाई अनीस और छोटा शकील सहित अन्य के खिलाफ हथियारों की तस्करी, नार्को-आतंकवाद, मनी लॉन्ड्रिंग, नकली भारतीय करेंसी नोटों के प्रचलन और अनधिकृत कब्जे या अधिग्रहण में शामिल होने के आरोप में मामला दर्ज किया था। लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी), जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) और अल कायदा जैसे अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठनों के साथ सक्रिय सहयोग में काम करने के लिए और फंड जुटाने का काम किये है ।इस मामले में 12 मई को अबू बकर शेख और शब्बीर अबुबकर शेख को गिरफ्तार किया था | मामले के संबंध में सेंट्रल मुंबई निवासी कुरैशी ने प्रॉपर्टी डीलिंग और विवादों के निपटारे के जरिए छोटा शकील के नाम पर बड़ी रकम वसूलने में सक्रिय भूमिका निभाई है उसने आतंकी फंड जुटाने में भी सक्रिय भूमिका निभाई थी।

Advertisement

Related posts

शिवसैनिकों को झटका, दुर्घटना बिमा से हटाया बालासाहेब का नाम:Balasaheb’s name removed from accident insurance

Deepak dubey

अदालत ने अमिताभ बच्चन की आवाज, तस्वीर के इस्तेमाल पर लगाई रोक

Deepak dubey

तेंदुए की दहशत: पुणे के रिहायशी इलाके में मिले तेंदुए के 3 शावक, ग्रामीणों को डर- बच्चों को वापस लेने आई मादा कर सकती है हमला

cradmin

Leave a Comment