Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटीहेल्थ शिक्षा

Pollution effect on skin: मुंबईकरों की बढ़ी टेंशन, प्रदूषण के चलते युवाओं में बढ़ी स्किन की समस्या

Omg..Pollution effect on skin
Advertisement

मुंबई। मुंबई में प्रदूषण (pollution) के स्तर में भारी वृद्धि हुई है, जो परेशानियों को बढ़ा रहा है। उच्च प्रदूषण का स्तर ( high pollution leval) न केवल श्वसन संबंधी समस्याएं पैदा कर रहा है, बल्कि स्किन के स्वास्थ्य (Pollution effect on skin ) पर भी प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है। ऐसे में डॉक्टरों ने अलर्ट करते हुए कहा है कि बीते कुछ दिनों से लोग स्किन एलर्जी से जुड़ी शिकायतों के साथ इलाज के लिए अस्पतालों और दावाखानों में पहुंच रहे हैं। इनमें युवाओं की संख्या उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। स्किन की एलर्जी की ये शिकायतें प्रदूषण से जुड़ी हैं।
डॉक्टरों का कहना है कि त्वचा की कई समस्याओं के लिए वायु प्रदूषण, नमी और तापमान जैसे कई पर्यावरणीय कारक जिम्मेदार हैं। रूखापन, खुजली, संवेदनशील त्वचा, स्किन एलर्जी जैसी कई समस्याएं प्रदूषण और मौसम में अचानक बदलाव के कारण होती हैं। डॉक्टर ने यह भी कहा कि युवाओं में त्वचा संबंधी समस्याएं आम हैं। चर्म रोग विशेषज्ञ डॉ. सौरभ शाह के मुताबिक त्वचा संबंधी शिकायत लेकर आने वाले मरीजों में इजाफा हुआ है। सप्ताह में 12 से 15 मरीज चर्म रोग की शिकायत लेकर पहुंच रहे हैं।

Advertisement

फिर से सक्रिय हो सकती हैं त्वचा की समस्याएं

हीरानंदानी अस्पताल में संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. नीरज तुलारा ने बताया कि उनकी ओपीडी में अर्टिकेरिया, कॉन्टैक्ट डर्मेटाइटिस के मरीज इलाज के लिए आ रहे हैं। मुंबई में प्रदूषण के स्तर में उल्लेखनीय वृद्धि निश्चित रूप से त्वचा की एलर्जी और बीमारियों में वृद्धि से जुड़ी है, जिसमें युवाओं की संख्या अधिक है। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ मामलों में मरीजों को अस्पताल में भर्ती करने की नौबत आ रही है। प्रदूषण अक्सर मामूली वायरल संक्रमण का कारण बन सकता है, जिससे व्यक्ति में त्वचा की समस्याएं फिर से तेज़ी के साथ सक्रिय हो सकती हैं।

समय से पहले दिख सकता है बुढ़ापा

बहुत से लोगों के शरीर पर ऑयलीनेस, ड्रायनेस, एग्जिमा, सोरायसिस जैसी स्किन प्रॉब्लम्स में बढ़ोतरी देखी जा रही है। वायु प्रदूषण ऑक्सीडेटिव तनाव पैदा कर त्वचा को नुकसान पहुंचा सकता है, जो त्वचा की कई समस्याओं को बढ़ा सकता है। प्रदूषण, खराब आहार और धूम्रपान जैसे कारक शरीर में ऑक्सीडेटिव तनाव को बढ़ा सकते हैं। इसके अलावा जो लोग लंबे समय तक बाहरी प्रदूषण के संपर्क में रहते हैं उनमें झुर्रियां जैसे समय से पहले उम्र बढ़ने के शुरुआती लक्षण दिखाई दे सकते हैं।

Modi govt. 2.0 budget: चुनाव पर नजर, बजट पर दिखा असर, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा

MUMBAI : फ्रांसीसी और भारतीय नौसेना ने दिखाया अपने युद्ध कौशल का जलवा

Advertisement

Related posts

‘mismanagement’ of BMC on water: पानी पर मनपा का ‘मिसमैनेजमेंट’, … और मुंबई हुई ‘टैंकर और बॉटल’ वालों के हवाले, लूट मची है लूट, मनपा की खामियों का फायदा उठाते माफिया

Deepak dubey

ICC WORLD CUP: मुंबई विश्व कप 2023: गलतियों के लिए कोई माफी नहीं! भारत-बांग्लादेश मैच से पहले रोहित शर्मा के खिलाफ पुणे पुलिस की कार्रवाई

Deepak dubey

Filmy dunia:चौथे सीजन के साथ लौटा इंडिया.कॉम का बीएल अवॉर्ड्स 2023

Deepak dubey

Leave a Comment