Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईरोचकसिटीहेल्थ शिक्षा

Mother donate Kidney on women’s day: महिला दिन पर दिखी मां की ममता, बेटी को दी किडनी, क्रोनिक किडनी डिजीज से थी पीड़ित

Advertisement

मुंबई। जिंदगी के हर मोड़ पर खुद को साबित करने वाली महिलाएं किडनी दान करने में भी सबसे आगे हैं, जिसमें मां, पत्नी, बहन का समावेश है। इसी तरह के एक मामले में महिला दिन (Mother donate Kidney on women’s day) पर एक मां की ममता दिखी। ममता में डूबी उस मां ने क्रोनिक किडनी डिजीज (Chronic kidney disease)से पीड़ित 30 वर्षीय बेटी को अपना गुर्दा दान  (kidney donation) कर दी। इसके बाद कहीं जाकर बेटी की जिंदगी बच सकी है।

Advertisement

नई मुंबई के वाशी में रहने वाली नेहा सिंह (३०) को अगस्त २०२१ में क्रोनिक किडनी डिजीज (सीकेडी) का पता चला था। वह कई महीनों से डायलिसिस पर थी। इसी बीच उसे तेज बुखार से गुजरना पड़ा था। स्थानीय डॉक्टरों ने उसका इलाज शुरू कर दिया था। लेकिन उसका बुखार कम ही नहीं हो रहा था। इसलिए परिवार वालों ने उसे मेडिकवर अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल में किए गए चिकित्सा जांच में मरीज टीबी से ग्रसित पाया गया।

टीबी के कारण स्थगित करना पड़ा किडनी प्रत्यारोपण

अस्पताल में नेफ्रोलॉजिस्ट और किडनी ट्रांसप्लांट विशेषज्ञ डॉ. अमित लंगोट ने कहा कि क्रोनिक किडनी डिजीज के कारण मरीज को गुर्दा प्रत्यारोपण की आवश्यकता थी। लेकिन टीबी के कारण संक्रमण फैलने के खतरे को देखते हुए गुर्दा प्रत्यारोपण को स्थगित करना पड़ा। इस बीच मरीज को दवाओं पर रखा गया और एक साल तक उसका इलाज किया गया। इस बीच मरीज की मां ने किडनी दान करने की इच्छा जताई। उसके बाद मरीज की किडनी ट्रांन्सप्लांट सर्जरी की गई।

चुनौतीपूर्ण थी सर्जरी

डॉ. अमित ने कहां कि मां का ब्लड ग्रुप बी पॉजिटिव और बेटी का ब्लड ग्रुप ए पॉजिटिव था। इसलिए यह प्रत्यारोपण सर्जरी करना काफी चुनौतीपूर्ण था। हमने माता-पिता की काउंसलिंग की और उन्हें सूचित किया कि ट्रांसप्लांट करना काफी जरूरी है। उसकी मां तुरंत अपनी किडनी दान करने के लिए आगे आई। ट्रांसप्लांट से पहले और बाद में नेहा को इम्यूनो सप्रेसेंट दवाएं दी गई और एक हफ्ते के बाद एक नई किडनी के साथ उन्हें छुट्टी दे दी गई। उन्होंने कहा कि हिंदुस्थान में हर साल लगभग १.८ लाख लोग किडनी की समस्या से पीड़ित होते हैं।

Modi govt. 2.0 budget: चुनाव पर नजर, बजट पर दिखा असर, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा

MUMBAI : फ्रांसीसी और भारतीय नौसेना ने दिखाया अपने युद्ध कौशल का जलवा

प्रेम, सौंदर्य, प्रकृति और जीवन के विभिन्न विषयों पर अविस्मरणीय कविता संग्रह है आत्मशारदा

Advertisement

Related posts

Sex, honour, shame and blackmail in an online world:‘लाइव पोर्न शो’ के बहाने ब्लैकमेलिंग का कारोबार, दो महिलाएं सहित तीन हुई बेनकाब

Deepak dubey

महाराष्ट्र में भीषण दुर्घटना: नासिक में धार्मिक कार्यक्रम से लौट रहा टेम्पो हुआ दुर्घटनाग्रस्त, 4 की मौत और 15 श्रद्धालु हुए घायल

cradmin

गडकरी से फिरौती मांगने वाले जयेश ने असम में ली थी बम बनाने की ट्रेनिंग, बेलगाम जेल में दाऊद गैंग में शामिल

Deepak dubey

Leave a Comment