Joindia
देश-दुनियाUncategorizedमुंबईरीडर्स चॉइस

Maharashtra farmer suicide: दम तोड़ते अन्नदाता, शिंदे सरकार के कार्यकाल में लाचार हुए किसान, 6 महीनों में 1450 किसानों ने की आत्महत्या!

Advertisement
Advertisement

मुंबई:राज्य में जबसे मिंधे सरकार आई है तबसे किसानों की दशा बिगड़ते जा रही है। किसानों को कर्जमाफी का लाभ न मिलने, बीज और बिजली की समस्या के बीच उत्पाद को उचित भाव नहीं मिलने से किसान हताश हो गए हैं उसका परिणाम है कि वर्ष 2021 की तुलना में वर्ष 2022 में आत्महत्या करने वाले किसानों की संख्या 199 अधिक है। वर्ष 2022 में कुल 2942 किसानों ने आत्महत्या की है। इनमें 1450 किसानों ने शिंदे सरकार के कार्यकाल में आत्महत्या की है। शिंदे सरकार के कुल 7 महीने के कार्यकाल को देखें तो लगभग कुल 1605 किसानों ने सरकार से अपेक्षाएं पूरी न होने की वजह से तंग आकर अपनी जान दी है। यह जानकारी किसान नेता किशोर तिवारी ने दी। उन्होंने कहा कि आश्चर्य तो यह है कि इनमे से मात्र 70 प्रतिशत मृतकों के परिवारों को मदद मिली है। बाकी के परिवार अब भी सरकार की ओर ऐसा भरी निगाहे टिकाए बैठे हैं।

सरकारी सूत्रों के अनुसार वर्ष 2022 में दिसम्बर अंत तक जारी आंकड़ों में कुल 2942 किसानों ने आत्महत्या की है जबकि वर्ष 2021 में जब महाविकास आघाडी सरकार थी तब 2743 किसानों ने ही आत्महत्या की थी। जून के अंत तक लगभग 1320 किसानों ने आत्महत्या की थी। 2022 जून के बाद दिसम्बर अंत तक कुल 1450 से अधिक किसानों ने आत्महत्या की। जनवरी 20, 2023 तक राज्य में 155 किसानों की आत्महत्या दर्ज की गई हैं। इस प्रकार मिंधे सरकार के 7 महीने के कार्यकाल में किसान आत्महत्या का आंकड़ा 1600 पार कर चुका है। वर्ष 2022 में सबसे ज्यादा औरंगबाद क्षेत्र में 1023 किसानों ने आत्महत्या की है। जबकि पिछले वर्ष यह आंकड़ा मात्र 887 था।

Advertisement

Related posts

Life in danger due to rain: मुंबई में हर साल 22 मिमी ज्यादा बरस रहा है पानी

Deepak dubey

husband killed wife: बीवी की लाश पर लगाया बिस्तर, दो साल तक छुपा रहा राज़, कंकाल ने खोला राज़ 

Deepak dubey

Green India: ड्रीम सिटी मुंबई को मिली नई पहचान

dinu

Leave a Comment