Joindia
कल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबईशिक्षा

दसवीं के टॉपर्स ने बताया सफलता का रहस्य, यह सब प्रातः अध्ययन, योजना और समर्पण का फल

Advertisement

मुंबई। यह महाराष्ट्र के उन 14 लाख छात्रों के लिए खुशी का दिन है जिन्होंने इस साल एसएससी बोर्ड परीक्षा में सफलता हासिल की है। जहाँ लड़कियों ने बेहतर सफलता दर के साथ अपनी बादशाहत जारी रखी, वहीं सभी टॉपर्स ने सफलता के लिए अपने जीत के फॉर्मूले साझा किए।

Advertisement

योजनाबद्ध तरीके से करें पढ़ाई
कोपरखैरणे के क्राइस्ट एकेडमी में पढ़ने वाली रिया गंगारमानी ने 96% अंक प्राप्त किए। उन्होंने कहा कि SSC 2024 की परीक्षा में 96% अंक प्राप्त कर उन्हें बहुत खुशी हो रही है। उन्होंने इस सफलता का श्रेय सुनियोजित योजनाबद्ध तरीके से प्रतिदिन पढ़ाई करने को दिया। समय पर पढ़ाई और उससे अवकाश का संतुलन बनाए रखने वाले टाइम टेबल के फलस्वरूप यह सफलता प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि उनकी इस सफलता में उनके विद्यालय व परिजनों ने भी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। पढ़ाई से अवकाश के दौरान उन्होंने टीवी देखने का भी भरपूर आनंद उठाया। यह सफलता प्राप्त करने के लिए लक्ष्य के प्रति केंद्रित रहना, समर्पण और लगातार प्रयास करना बहुत महत्त्वपूर्ण रहा। वे अभियांत्रिकी क्षेत्र में अपना भविष्य उज्ज्वल बनाना चाहती हैं।

समर्पण का फल मिलता है
सेंट जेवियर्स की एक और टॉपर चार्वी गोखले ने 95% अंक प्राप्त किए। अपनी खुशी और इस सफलता का रहस्य उजागर करते हुए उन्होंने कहा, “यह सब समर्पण और दृढ़ संकल्प से संभव हो सका है!” चार्वी मेडिकल क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहती हैं, इसके लिए वे आगे की तैयारी में जुट गई हैं।

योजना में शक्ति
सेंट जेवियर्स हाई स्कूल, भांडुप की प्रथा खोबरेकर ने कहा कि उन्होंने बहुत सावधानीपूर्वक पूरी योजना के साथ पढ़ाई की, जिसके परिणामस्वरूप उन्हें 94.2% अंक प्राप्त हुए। उन्होंने अपनी पढ़ाई के लिए स्वयं की एक समय सारिणी बनाई थी। वे कहती हैं, “अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए शुरू से ही शांत और केंद्रित रहना महत्त्वपूर्ण होता है।” प्रथा 90% से अधिक का लक्ष्य रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए इस रणनीति की सिफारिश करती है, जिसमें स्केचिंग और संगीत जैसी आरामदायक गतिविधियों से भरे अध्ययन अवकाश पर जोर दिया जाता है।

 

अर्ली बर्ड को मिलते उच्च अंक
डॉन बॉस्को हाई स्कूल, माटुंग के एक प्रतिभाशाली छात्र ओम मोजर ने अपनी उम्मीद से अधिक 94.60% अंक प्राप्त किए। उन्होंने कहा, “यह अविश्वसनीय है। मैं केवल 80% से ऊपर का लक्ष्य रख रहा था।” ओम ने अपनी सफलता के लिए प्रातः अध्ययन (मध्य सत्र से सुबह 4 बजे पढ़ना) को श्रेय दिया। इस दौरान उन्होंने सबसे पहले अपने कमजोर विषयों को निपटाने पर ध्यान केंद्रित किया। वे अब आगे विज्ञान स्ट्रीम में अपना करियर बनाने पर ध्यान देंगे।

टार्गेट लेगा 100 जरूरतमंद विद्यार्थियों को गोद
शैक्षणिक क्षेत्र में अग्रणी टार्गेट पब्लिकेशंस प्राइवेट लिमिटेड ने 100 विद्यार्थियों को गोद लेकर उनका भविष्य सँवारने वाले एक अनोखे कार्यक्रम का अनावरण किया है। टार्गेट अपनी इस नई पहल के अंतर्गत कक्षा दसवीं व बारहवीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले राज्य के 100 होनहार व जरूरतमंद विद्यार्थियों का चयन कर उन्हें छात्रवृत्ति प्रदान करेगा। टार्गेट इन चुने गए विद्यार्थियों को गोद लेकर उनकी स्नातक तक पढ़ाई पूरी करने की जिम्मेदारी उठाएगा। इस आर्थिक सहायता से न केवल विद्यार्थियों की शैक्षणिक जरूरतें पूरी होंगी, बल्कि निश्चित ही उनका भविष्य सँवर जाएगा।

शिक्षा हर विद्यार्थी का जन्मसिद्ध अधिकार
टार्गेट पब्लिकेशंस के कार्यकारी निदेशक अगस्ती लावंड ने इस संदर्भ में बताया कि हर वर्ष कई होनहार विद्यार्थी आर्थिक समस्याओं के चलते अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते हैं। शिक्षा अधूरी छोड़ने के कारण इन विद्यार्थियों का भविष्य अंधकार में चला जाता है। ‘ शिक्षा हर विद्यार्थी का जन्मसिद्ध अधिकार है ’ टार्गेट ने हमेशा से ही इस विचारधारा का समर्थन किया है और इसी दिशा में आगे बढ़ते हुए इस कार्यक्रम की शुरुआत की गई है।
लावंड ने सभी एसएससी छात्रों को उनकी सफलता पर बधाई देते हुए उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएँ भी दीं। उन्होंने कहा, “इस साल के एसएससी पेपर छात्र-अनुकूल थे, जिसमें पाठ्यपुस्तक के व स्पष्ट प्रश्न पूछे गए थे। उन्होंने विज्ञान पेपर 1 में ‘परमाणु’ प्रश्न के लिए दोनों भिन्न उत्तरों को स्वीकार करने के लिए बोर्ड की सराहना भी की।

इस प्रकार करें आवेदन
इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करना बहुत ही सरल है। अच्छे अंक प्राप्त करने वाले योग्य विद्यार्थी अपना रिजल्ट adm.targetpublications@gmail.com पर ईमेल कर दें। इसके बाद संस्था की ओर से विद्यार्थियों का चयन कर उन्हें आगे की प्रक्रिया के संदर्भ में सूचित किया जाएगा।

Advertisement

Related posts

मुंबई से आजमगढ़ पहुंचते ही प्रेमी ने रेता युवती का गला, खुद को भी किया अधमरा

vinu

Joint operation of Navy-NCB and ATS: 3300 किलो ड्रग्स, 5 पाकिस्तानी तस्कर, नौसना-एनसीबी और एटीएस ने गुजरात समंदर से पकड़ी सबसे बड़ी खेप

Deepak dubey

APMC: एपीएमसी में शुरू हुई  मशहूर शाही लीची की आवक, 300 रुपए किलो हो रही विक्री 

Deepak dubey

Leave a Comment