Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

Unseasonal rise in prices of pulses: बेमौसम बरसात ने लगाई दाल की कीमतों में आग, मसूर-तुअर दाल की कीमतों आई उछाल, नए फसल आने के बावजूद कीमतों पर नहीं दिखा असर

Advertisement

मुंबई। बेमौसम बरसात(unseasonal rain) के कारण महाराष्ट्र सहित गुजरात ,राजस्थान में दाल के फसल (Unseasonal rise in prices of pulses) नुकसान हुआ है। जिसके कारण दाल की कीमतों उछाल     (Pulses prices jump)देखने मिला है। एपीएमसी में दाल की कीमतों में 10 रुपये से लेकर 25 रुपये तक बढ़े है। इसी तरह गेंहू की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई है।

Advertisement

वाशी स्थित एपीएमसी बाजार(APMC market in Vashi) में महाराष्ट्र के लातूर ,धुलिया ,गुजरात ,राजस्थान के उदयपुर और आंध्र प्रदेश से दाल आते है। लेकिन अचानक बेमौसम बरसात के कारण फसलों को काफी नुकसान हुआ है। ऐसे में अच्छे क्वालिटी के दाल उपलब्ध नहीं है परिणाम नए फसल आने के बावजूद कीमतों में गिरावट होने के बजाय कीमतों में उछाल हुआ है। एपीएमसी अनाज मंडी के व्यापारी संदीप घनाते ने बताया कि मुंग दाल 90 रुपए से उछलकर 115 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। इसी प्रकार मूंग मोगर 110 रुपए तथा मूंग छिलका दाल 100 से 105 रुपए प्रति किलो पहुंच गया है। मूंग व इसकी दाल में पन्द्रह दिनों के अंदर दस रुपए प्रति किलो तेजी दर्ज की गई है। वही तुअर दाल 120 से 135 पहुंच गया है उसी तरह पहले 55 रुपये किलो बेचा जाने वाला चना दाल 65 रुपए किलो पंहुचा हुआ। व्यापारियों का कहना है कि लातूर , धुलिया ,गुजरात ,राजस्थान से नया दाल आ रहा है इसके बावजूद कीमतों में कोई सुधार नहीं है इसका कारण फसलों नुकसान है।आंध्र प्रदेश से नया मूंग आ रहा है, लेकिन उसका असर यहां नहीं लग रहा है। यहीं कारण है कि राजस्थानी मूंग के भाव निरंतर बढ़ते जा रहे हैं। मध्य प्रदेश की पुरानी मूंग समाप्ति की ओर है।

गेंहू चावल के कीमतों में भी नहीं हो रही सुधार
बेमौसम बरसात का असर गेंहू चावल के कीमत पर भी देखने मिल रहा है। पिछले कुछ समय से लगातार गेंहू की कीमतों में उछाल होने से पैकेट वाले आटे की कीमतों में भी बढ़ोतरी हुई थी। लेकिन अब बाजार में नए गेहूं की आवक शुरू हो गई है। इसके साथ ही केंद्रीय खाद्य के तरफ से भी सरकारी गोदाम में रखे गेहूं खुले बाजार में 30 लाख टन गेहूं बेचने के फैसले के बाद थोक और खुदरा बाजारों में गेहूं की कीमतों में गिरावट होने का अनुमान था ।लेकिन फसलों का नुकसान होने से कीमत में कोई सुधार नहीं दिखाई दे रहा है। एमपी लोकन गेंहू पहले 30 रुपए बेचा जाने वाला जेंहि अभी 36 रुपए में बिक रहा है एमपी सीहोर पहले 30 रुपए किलो बेचा जाता था वह अब 36 रुपए किलो बेचा जा रहा है। इसी तरह चावल की कीमतों में भी 4 से 6 रुपये बढ़ोतरी हुई है।

Advertisement

Related posts

Crime: IIT मुंबई के छात्र दर्शन सोलंकी का सुसाइड नोट पुलिस के हाथ; अहम जानकारी सामने आई

Deepak dubey

ऑटो-टैक्सी चालकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी

Deepak dubey

बीएमसी टेक्नॉलाजी से भगाएगी प्रदुषण और बदबू

Dhiru

Leave a Comment