Joindia
कल्याणक्राइमठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

Police caught bike riders: रेस लगाने पहुंच गए ‘100’ राइडर!, पुलिस ने 48 बाईकों पर 82 को दबोचा, रुपयों के लिए खेलते थे, रफ्तार का जानलेवा खेल

Advertisement

मुंबई। वेस्टर्न एक्सप्रेस हाई वे (Western Express Highway) पर चलने वाले वाहन चालकों(Drivers) एवं आसपास के निवासियों के लिए वर्षों से सिरदर्द साबित हो रहे राइडरों (Ryders) के खिलाफ कल खेरवाड़ी पुलिस ने ‘विशेष’ अभियान चलाया(Police caught bike riders)। डीसीपी दीक्षित गेडाम के निर्देश एवं वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक राजेंद्र मुलिक के मार्गदर्शन में खेरवाड़ी पुलिस द्वारा की गई इस कार्रवाई में ४८ बाईकों पर आए ८२ राइडरों को पुलिस ने दबोचा है। बताया जा रहा है कि ये सभी राइडर सोशल नेटवर्किंग साइट इंस्टा ग्राम (Ryder social networking site Instagram) पर आए एक मैसेज के बाद रफ्तार का जानलेवा खेल खेलने वेस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे पहुंचे थे।
बता दें कि वेस्टर्न एक्सप्रेस हाई वे पर रफ्तार में बाइक चलाने और बाइक पर स्टंट बाजी करने वाले बाइकरों की समस्या वर्षों पुरानी है। तेज रफ्तार बाइक पर स्टंट बाजी करते ये बाइकर अपनी जान से तो खेलते ही हैं, सड़क से गुजरने वाले दूसरे वाहन चालकों और राहगीरों की जान भी खतरे में डालते हैं। इन बाइकारों की मोडीफाई कराई गई बाईकों के साइलेंसर की तेज आवाज से आसपास रहने वालें लोगों की नींद में खलल पड़ती है। ऐसी शिकायतें हाईवे के आसपास के पुलिस थानों में अक्सर आती रहती हैं।

Advertisement

सी लिंक से शुरू होती है रेस
बताया जाता है कि मुंबई व आसपास क्षेत्र के राइडर पहले बांद्रा – पश्चिम के रिकलेमेशन स्थित सी लिंक के पास जुटते हैं और सट्टा लगाकर वहां से रेस शुरू करते हैं। ये राइडर कालानगर होते हुए गोरेगांव तक जाते हैं तथा वहां रेस खत्म करने के बाद बाइक पर स्टंट बाजी करते हुए फिर सी लिंक पर लौटते हैं। इन बाइकारों में ज्यादातर नशेड़ी होते हैं, ऐसा सूत्रों का दावा है।

पुलिस पर भी करते हैं हमला
राइडर कई बार बाइक चलाने के दौरान रास्ते में चलने वाले दूसरे दुपहिया वाहन चालकों को टपली, लात मारते हैं, पुलिस की टोपी उछालने जैसी हरकतें भी करते रहे हैं। पुलिस इन्हें रोकने के लिए समय – समय पर नाका बंदी आदि करती लेकिन तेज रफ्तार होने के कारण इन्हें रोकना जोखिम भरा सिद्ध होता है। पुलिस सख्ती बरतती है तो कुछ समय के लिए राइडर अपना ठिकाना बदल लेते हैं। ये बीकेसी कार्टर रोड, मरीन ड्राइव आदि इलाकों में ‘टाइम पास’ करते हैं लेकिन पुलिस शिथिल होते ही राइडरों की रेस दोबारा शुरू हो जाती है।

राइडरों को भारी पड़ी स्टंटबाज की रासलीला
गौरतलब हो कि बीते सप्ताह एक स्टंटबाज राइडर का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हुआ था। वीडियो में उक्त बाइकर अपनी दो महिला मित्रों के साथ ‘रासलीला’ करता दिखा। बांद्रा पूर्व स्थित बीकेसी में बनाए गए राइडर की रासलीला का उक्त वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आई। जोन ८ के डीसीपी दीक्षित गेडाम ने इसे गंभीरता से लेते हुए सभी राइडरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए थे। मामले की जांच के बाद खेरवाड़ी पुलिस ने उक्त २४ वर्षीय राइडर को एंटॉप हिल क्षेत्र से गिरफ्तार किया, जो कि एक पेशेवर अपराधी निकला। इसके बाद कल की गई कारवाई में खेरवाड़ी पुलिस ने ४८ बाईकों पर आए ८२ राइडरों को गिरफ्तार किया। पुलिस अब राइडरों की बाइक मोडीफाई करने वाले अवैध गैरेज वालों एवं बाइकरों के नेटवर्क, आपराधिक पृष्ठभूमि आदि की जांच कर रही है।

MUMBAI : फ्रांसीसी और भारतीय नौसेना ने दिखाया अपने युद्ध कौशल का जलवा

Advertisement

Related posts

जनता की पसीने की कमाई ‘मित्रों’ की जेब में डालने वाले प्रधानमंत्री देश को पहली बार मिला – नाना पटोले

Deepak dubey

गणपति बप्पा के आगमन से पहले… उद्धव ठाकरे का सूचक बयान

Deepak dubey

Kamal will reach schools with the film Let’s Change: स्वच्छता के दरवाजे से स्कूलों में ‘मोदी प्रचार’, लेट्स चेंज फ़िल्म से कमल पहुंचेगा स्कूलों में, प्रत्येक छात्र से 10 रुपये लेकर दिखाई जाएगी फ़िल्म, कमल और मोदी के मन की बात का होगा संवाद

Deepak dubey

Leave a Comment