Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियामुंबईराजनीति

Deputy CM are brokers of capitalists-Sanjay Raut’s strong attack: मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री पूंजीपतियों के दलाल – संजय राऊत का जोरदार हमला

Advertisement

मुंबई ।(Deputy CM are brokers of capitalists-Sanjay Raut’s strong attack)धारावीकरों के न्याय हक्क के लिए सड़कों पर उतरने वाले मुंबईकरों का मजाक उड़ाने वाले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे(Chief Minister Eknath Shinde)और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस(Deputy Chief Minister Devendra Fadnavis) उद्योगपतियों और पूंजीपतियों के दलाल हैं, ऐसा हमला शिवसेना नेता, सांसद संजय राउत ने किया है ।

Advertisement

संजय राउत(Sanjay Raut)ने रविवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री के बयान पर संज्ञान लिया। हाँ, मोर्चा में वे लोग बाहर से आये थे। प्रधान मंत्री मोदी द्वारा चंद्रमा पर अंतरिक्ष यान भेजने के साथ जो यातायात शुरू हुआ वह वहीं से आया।लेकिन सवाल मुंबई, धारावी का था।उसके लिए लोगों को चंद्रमा से, सूर्य से, मंगल से आने दो। बल्कि उन लोगों के मुंह में जो दहाड़ थी ‘धारावी बचाओ, मुंबई बचाओ’ और ‘अडानी के गले से मुंबई को बाहर निकालो’ और यह मुंबई और देश की मांग होने की बात संजय राउत ने कहीं ।

संजय राउत ने आलोचना करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री को पता है कि वह किसकी दलाली कर रहे हैं, उन्हें बताना चाहिए कि क्या उन्होंने अपनी मराठीपन को दिल्ली के पैरों के नीचे रख दिया हैकहते हुए सवाल भी पूछा कि मुंबई को पूंजीपति के गले में दहेज के रूप में दे दिया है

देश से छीना जा रहा रोजगार

पूरे मुंबई, महाराष्ट्र और देश भर से नौकरियाँ एक राज्य में ले जाई जा रही हैं। यह इजराइल की नीति है. उन्होंने आलोचना करते हुए कहा कि मुंबई, कोलकाता, बिहार में ठेके एक राज्य को दिए जा रहे हैं, क्या इस देश में अन्य राज्य नहीं हैं? यह बहुत गंभीर मामला होने की बात संजय राउत ने कही।

केंद्र सरकार चर्चा से भाग रही है

संजय राउत ने संसद में हुई घटना के लिए भी केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया। देश के गृह मंत्री को संसद में आकर इस पर चर्चा करनी चाहिए।संजय राउत ने यह भी सवाल उठाया कि यह सरकार चर्चा से क्यों भाग रही है। उन्होंने यह भी कहा कि संसद में जो हुआ वह युवाओं द्वारा बेरोजगारी की निराशा से उठाया गया कदम था।

रामलला के दर्शन से बेरोजगारी की समस्या नहीं होगी दूर

बेरोजगार युवाओं को रामलला के मुफ्त दर्शन कराए जाएंगे. रामलला के दर्शन से बेरोजगारी की समस्या दूर नहीं होगी. इन घटनाओं के लिए सरकार जिम्मेदार है क्योंकि युवाओं के मन में विद्रोह की भावना है. संजय राउत ने मोदी सरकार पर टिका करते हुए कहा कि जब सरकार दो करोड़ बेरोजगारों को रोजगार देने वाली थी ? उसका क्या हुआ.

Congress against Adani: अदानी को नहीं दिया जाए धारावी विकास परियोजना! कांग्रेस

Advertisement

Related posts

ट्रैफिक पुलिस की मनमानी के खिलाफ आंदोलन की चेतावनी

Deepak dubey

ऑन पब्लिक डिमांड फिर से 23 सितंबर को रिलीज होगी सुपर हिट फिल्म ‘सौदागर’

vinu

NAVI MUMBAI: मुंबई-गोवा हाईवे का चौपदरीकरण का काम जल्द से जल्द करने की मांग, हाईवे पर हर 50 से 100 किलोमीटर पर ट्रामा केयर सेंटर स्थापित करने की आवश्यकता

Deepak dubey

Leave a Comment