Joindia
कल्याणक्राइमठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

CRIME: पत्नी का पर्स चोरी करने के शक में दो यात्रियों का किया अपहरण

Advertisement

मुंबई। एक घटना सामने आई है कि ट्रेन में सफर के दौरान अपनी पत्नी का पर्स चोरी करने के आरोपी एक यात्री ने दो साथी यात्रियों का अपहरण कर लिया और उन्हें फंसा कर रखा। दोनों युवकों को दो दिनों तक भिवंडी में हिरासत में रखा गया था। दिलचस्प बात यह है कि पत्नी के पर्स से रुपये और दस्तावेज नहीं मिलने पर नाराज पति ने 50 हजार की फिरौती मांगी। इस संबंध में कल्याण जीआरपी पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी पति को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम अजहर अताहुर रहमान शेख है, आगे की जांच कल्याण लोहमार्ग पुलिस कर रही है। इस घटना के सामने आते ही इलाके में सनसनी फैल गई।

Advertisement

Modi govt. 2.0 budget: चुनाव पर नजर, बजट पर दिखा असर, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा

आरोपी और पीड़ित पवन एक्सप्रेस से यात्रा कर रहे थे
आरोपी अजहर शेख अताहुर रहमान अपनी पत्नी के साथ पवन एक्सप्रेस से जयनगर से मुंबई जा रहा था। सज्जत शेख और साजीज शेख भी उसी ट्रेन के डिब्बे में सफर कर रहे थे।

आरोपी की पत्नी का पर्स चोरी हो गया
सफर के दौरान कार से रहमान की पत्नी का पर्स चोरी हो गया। चूंकि पर्स में कुछ पैसे थे, अजहर रहमान को संदेह था कि सज्जत और साजीत शेख, जो सह-यात्री थे, ने पर्स और पैसे चुरा लिए थे।

MUMBAI : फ्रांसीसी और भारतीय नौसेना ने दिखाया अपने युद्ध कौशल का जलवा

पर्स चोरी होने का शक होने पर साथी यात्रियों ने रुक गए
इतना ही नहीं अजहर ने दोनों को कल्याण स्टेशन पर छोड़ दिया और सीधे भिवंडी स्थित एक घर में ले गया। दो दिन तक दोनों को उस घर में रखा गया। फिर छुड़ाने के लिए परिजनों से 50 हजार रुपये की फिरौती मांगी।

नागपाड़ा पुलिस ने युवक को छुड़ाया
अपहरण की सूचना मिलते ही परिजनों ने मुंबई नागपाड़ा थाने में इस संबंध में मामला दर्ज करा दिया। इसके बाद पुलिस ने छानबीन कर दोनों को छुड़ा लिया।

नागपाड़ा पुलिस ने कल्याण लोहमार्ग थाने में यह शिकायत दर्ज कराई है। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Advertisement

Related posts

HUID कोड बिना हॉलमार्क वाले सोने के आभूषणों की बिक्री पर रोक, आज 1अप्रैल से नियम लागू

Deepak dubey

बेस्ट बेकरी कांड: तीन साल बाद तीन गवाह का सच

vinu

Tribute to martyr : शहीद जवानों के परिजनों को मदद की प्रदर्शनी कितना उचित- विश्वनाथ सचदेव

Deepak dubey

Leave a Comment