Joindia
कल्याणठाणेमुंबईराजनीति

The first rain exposed the reality of the Municipal Corporation: पहली बरसात ने डुबो डाला!, मनपा प्रशासन के कार्यों की खुली पोल, शिवसेना ने चेताया

Advertisement
Advertisement

मुंबई। मानसून आने से पहले ही नालों की सफाई की जिम्मेदारी महानगरापालिका की होती है। लेकिन ठाणे मनपा की सीमा में नालों की सफाई ठीक तरीके से न होने का खुलाशा पहली बरसात ने कर दिया हैं। दरअसल 9 जून को सुबह के दौरान हुई बरसात में ही ठाणे मनपा की सीमा में आनेवाला दिवा परिसर डूबा हुआ नजर आया। इससे साफ पता चलता है कि ठाणे मनपा ने अपना कार्य जिम्मेदारी से नहीं किया था।

बता दें कि मानसून पूर्व उपाययोजनाओं के तहत मनपा प्रशासन का कार्य होता है कि वे अपने क्षेत्र में नालों की अच्छी तरह से सफाई करे। यदि मनपा प्रशासन अपना कार्य उचित तरीके से नहीं करती हैं तो उसी मनपा क्षेत्र में जलजमाव की स्थिती बनना आम बात हैं। ऐसा ही कुछ वाकिया ठाणे मनपा की सीमा में भी देखने को मिला हैं। दरअसल रविवार के दिन बरसात ने ठाणे मनपा क्षेत्रसहित पूरे मुंबई, ठाणे, पालघर में दस्तक दी। ठाणे मनपा की सीमा में पहली बरसात में ही ठाणे मनपा का दिवा शहर डूबा पाया गया। इससे एक बार फिर ठाणे मनपा प्रशासन द्वारा किए गए कार्यों पर प्रश्न चिह्न खड़ा करने का कार्य कर रहा है।

शिवसेना(उद्धव बालासाहेब ठाकरे) की मांग,
सहायक आयुक्त पर हो कार्रवाई

दिवा वार्ड समिति के मुख्य अधिकारी के रूप में, सहायक आयुक्त कम पड़ रहे थे और उनसे उम्मीद की गई थी कि वे बारिश से पहले दिवा शहर का संपूर्ण निरीक्षण दौरा करेंगे। कई जगहों पर नाले की पूरी सफाई नहीं हुई हैं। वहीं प्लास्टिक की थैलिया भी नहीं हटाई गई हैं। नालों की पूरी क्षमता से सफाई नहीं होने से भारी बारिश होने पर नागरिकों के घरों में पानी घुसने की आशंका बनी रहती है। हर साल बारिश के मौसम में दीवा में इस तरह की बात देखने को मिलती है। शिवसेना(उद्धव बालासाहेब ठाकरे) के दिवा शहर संघटक रोहिदास मुंडे ने कड़ा रुख अपनाया है। उन्होंने कहा कि अगर दिवा वार्ड समिति के सहायक आयुक्त पिछली घटनाओं से सीख नहीं लेते हैं, तो उनपर कार्रवाई की जानी चाहिए। रोहिदास मुंडे ने यह भी कहा है कि इससे प्रशासन में अनुशासन की आवश्यकता होगी और दिवा शहर के प्रति अधिकारियों का रवैया बदल जाएगा। सहायक आयुक्त से यह भी अपेक्षा की गई है कि वे दिवा शहर में कई स्थानों पर देखी जाने वाली गंदगी और अस्वच्छ स्थितियों पर भी भूमिका निभाएंगे लेकिन मनपा प्रशासन दिवा शहर को नजरअंदाज किया जा रहा हैं। अगर ऐसा करना है तो ऐसे प्रशासन के प्रमुख अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

Advertisement

Related posts

1 lakh 29 thousand vehicles, fine of Rs 18 crore remaining: 1 लाख 29 हजार वाहनों पर ई-चालान की कार्रवाई, 18 करोड़ रुपये का जुर्माना बाकी

Deepak dubey

Mother’s Day – 2023: मिलिए धारावी में रहने वाली 80 लड़कियों की मां से

dinu

वाराणसी से मुंबई में कफ सिरप की तस्करी एनसीबी ने किया अंतराज्यीय ड्रग कार्टेल का भंडाफोड़ मुख्य आरोपी सहित पांच गिरफ्तार 13248 बोतल किए जब्त मुंबई | प्रतिबंधित कोडीन आधारित कफ सिरप की तस्करी करने वाले एक अंतरराज्यीय गिरोह का भंडाफोड़ मुंबई एनसीबी ने किया | इस गिरोह के मुख्य सरगना सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर 13 हजार 248 कफ सिरप की बोतल बरामद की हैं | विशेष की इसे वाराणसी से पुणे ट्रेन से भेजकर मुंबई के अलग अलग भागों में तस्करी जा रही थी | पिछले कुछ वर्ष से प्रतिबंधित कोडीन आधारित कफ सिरप का इस्तेमाल किया जा रहा है | इसके लिए तस्करो द्वारा कई हथकंडे अपनाए जा रहे है | मुंबई एनसीबी को जानकारी मिली थी कि कुछ लोग उत्तर प्रदेश के वाराणसी से ट्रेन के माध्यम से पुणे कोडीन कफ सिरप की तस्करी किया जा रहा है | इस जानकारी के आधार पर एनसीबी ने 13 हजार 248 कफ सिरप की बोतल बरामद करते हुए मुख्य आरोपी सहित पांच तस्करों को गिरफ्तार किया गया | तस्करी के लिए फर्जी दस्तावेज का इस्तेमाल एनसीबी की जांच में खुलासा हुआ है कि आरोपी कफ सिरप की खेप मूल रूप से उत्तर प्रदेश के वाराणसी से नकली पते और फर्जी दस्तावेजों के आधार पर मुगलसराय स्टेशन से महाराष्ट्र के पुणे लाई जाती थी । उसके बाद अलग-अलग माध्यम से स्थानीय तस्करों के जरिए इसे मुंबई सहित राज्य के अलग अलग जगहों पर भेजा जाता था | एनसीबी सूत्रों की माने तो गिरफ्तार मुख्य सरगना का मुंबई में मेडिकल की दुकान है |लेकिन इसकी भनक इस गिरोह के किसी भी सदस्य को नहीं लगने दी है | इस गिरोह के जुड़े सदस्य भी मुख्य सरगना को नहीं पहचानते थे | सिर्फ व्हाट्सप्प या अन्य सोशल माध्यम से संपर्क में रहते हुए इस तस्करी को अंजाम दे रहे थे |इस गिरोह के पांच लोगो को गिरफ्तार किया जा चूका है कुछ और लोगो की गिरफ़्तारी होने की संभावना जताई जा रही है |

Deepak dubey

Leave a Comment