Joindia
देश-दुनियाकल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबईसिटी

CAIT: दो टोल नाकों के बीच के फासले के नियम की उड़ाई जा रही है धज्जियां

Advertisement

मुंबई। अखिल भारतीय खाद्य तेल व्यापारी महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं कॉन्फफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (CAIT) के महाराष्ट्र प्रदेश के महामंत्री शंकर ठक्कर ने बताया केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के नियमों के अनुसार दो टोल नाकों के बीच 60 किलोमीटर की दूरी होनी चाहिए लेकिन थाने हाईवे से मुंबई में प्रवेश करने के लिए आनंद नगर टोल नाका, एलबीएस रोड से मुलुंड में प्रवेश करने वाला मोडेला नाका और एरोली की तरफ से मुंबई में प्रवेश करने वाले टोल नाके के बीच की दूरी 20 किलोमीटर से भी कम होते हुए भी तीनों जगह टोल नाके लगे हुए हैं जिससे वाहन चालकों की जेब ढीली हो रही है। इसी तरह अहमदाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पालघर जिले से होकर गुजरता है, इस राष्ट्रीय राजमार्ग पर दो टोल बूथ खनिवाडे और चारोटी हैं इनके बीच केवल 47 किमी की दूरी पर दो टोल बूथ हैं। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के राष्ट्रीय राजमार्ग शुल्क, 2008 ( दरों और संग्रह का निर्धारण) नियमों के अनुसार, दो टोल बूथों के बीच की दूरी साठ किलोमीटर होनी चाहिए और यह देश के सभी राज्यों पर लागू है। इस क्षेत्र से कई स्थानीय मालवाहक वाहन गुजरते हैं। इन दोनों टोल बूथों के कारण उन्हें अधिक टोल चुकाना पड़ता है। कार/जीप के लिए 65 रुपये और हल्के वाणिज्यिक वाहन के लिए 115 रुपये टोल है। ट्रकों के लिए यह दर 230 रुपये और मल्टी- हॉल वाहनों के लिए 375 रुपये है। इन टोल – बूथों के नजदीक होने के कारण वाहन – चालकों को दोगुना टोल चुकाना पड़ रहा है।

वाहन चालकों को चुकाना पड़ रहा है अधिक टोल

संगठन के महामंत्री तरुण जैन ने नितिन गडकरी ( केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री )से विनम्र निवेदन किया है कि आप संबंधित विभाग को आदेश दें कि इस तरह के टोल नाकों को तुरंत बंद किया जाए जिससे वाहन चालको कि परेशानियां कम हो। वाहन चालकों को अधिक टोल चुकाना पड़ रहा है।

 

Advertisement

Related posts

किरीट के आरोप झूठे- अनिल परब

vinu

पाकिस्तान इंग्लैंड मैच पर सट्टा लगाते चार गिरफ्तार

Deepak dubey

फिल्म सिटी के अंदर मृत मिला तेंदुआ

Deepak dubey

Leave a Comment