Joindia
देश-दुनियाकल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबईसिटी

नराधम ‘लव-जिहादियों’ को रोकने के लिए राज्य में कठोर एवं स्वतंत्र कानून बनाएं ! लव जिहादी आफताब को फांसी पर लटकाएं ! ‘रणरागिनी’की मांग

मुंबई। श्रद्धा वालकर को प्रेमजाल में फंसाकर उसके साथ ‘लिव इन’में रहनेवाले तथा विवाह के विषय में पूछे जाने पर उसके साथ मारपीट कर उसकी अमानवीय हत्या करनेवाला लव-जिहादी आफताब एक क्रूर एवं नराधम है । कोई किसी व्यक्ति से प्रेम करता हो, तो वह उस व्यक्ति की इस प्रकार से अमानवीय हत्या नहीं करेगा । इसलिए इस हत्या की जांच करते समय हत्या का उद्देश्य जान लेना आवश्यक है । हिन्दू लडकियों को प्रेमजाल में फंसाकर उनका धर्मपरिवर्तन करने, उनके साथ ‘निकाह’ करने, ऐसा करना अस्वीकार करने पर बलात्कार करने, ब्लैकमेल करने, हत्या करने जैसे हजारों प्रकरण इससे पूर्व उजागर हुए हैं । ऐसी घटनाएं अब सामान्य हो चुकी हैं । हमारे लडकियों को भगाने के लिए ये नराधम अब हमारे घरतक पहुंच गए हैं । हिन्दू अभिभावक और हिन्दू युवतियां कब जागेंगी ? क्या आप पुनः अपनी बेटी के 35 टुकडे होने देनेवाले हैं ? इन घटनाओं को देखते हुए राज्य में तत्काल ‘लव जिहाद विरोधी कानून’ बनाया जाए, साथ ही इस प्रकरण में लव जिहादी आफताब को तत्काल फांसी पर लटकाया जाने की मांग डॉ दीक्षा पेंडभाजे ने मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री से किए है ।

इस घटना की निंदा करने के लिए तथा उक्त मांगों को लेकर हिन्दू जनजागृति समिति की महिला शाखा ‘रणरागिनी’ की ओर से मुंबई में आंदोलन किया गया, उसमें डॉ. पेंडभाजे ऐसा बोल रही थीं ।* इस आंदोलन में विभिन्न हिन्दू संगठनों ने भाग लिया । इस आंदोलन में ‘तुम अबला नहीं, सबला बनो ! चंडी, दुर्गा, काली बनो !’, ‘लव जिहादी नराधम आफताब को फांसी दीजिए !’, ‘राज्य में लव जिहादविरोधी कानून लागू कीजिए!’ के नारे भी लगाए गए । इस अवसर पर श्रीमती दीक्षा पेंडभाजे ने बताया कि ‘लव जिहाद’ की घटनाएं रोकने के लिए आगामी शीतकालीन अधिवेशन में ‘लव जिहादविरोधी कानून बनाया जाए’, इसके लिए हम बहुत शीघ्र मुख्यमंत्री एवं गृहमंत्री से मिलनेवाले हैं ।इस अवसर पर पेंडभाजे ने कहा की महिला पत्रकार को ‘पहले तुम कुमकुम लगाओ, उसके उपरांत मैं तुम से बात करूंगा’, ऐसा वात्सल्यभाव से बोलनेवाले पू. भिडे गुरुजी को नोटिस भेजनेवाली राज्य महिला आयोग की अध्यक्षा क्या ‘लव जिहाद’ की बढती घटनाओं पर कुछ बोलेंगी ? राज्य में युवतियों एवं महिलाओं के लापता होने का भयावह स्तर देखते हुए वे इस पर कुछ टिप्पणी करेंगी अथवा नहीं ?’, यह हमारा प्रश्न है । राज्य का गृहविभाग युवतियों एवं महिलाओं के लापता होने के पीछे कुछ बडा षड्यंत्र तो नहीं न ? साथ ही ऐसा ‘लव जिहाद’ के षड्यंत्र के अंतर्गत तो नहीं हो रहा है न ?,इसकी भी जांच करे, यह हमारी मांग है ।

Related posts

न मास्क की मजबूरी, न कोरोना की पाबंदी: 2 अप्रैल से राज्य में सभी प्रतिबंध हुए खत्म, मॉल, जिम, होटल और सिनेमाघर अब 100% कैपेसिटी में संचालित होंगे

cradmin

Tigress cubs in SGNP: बाघिन ने चार शावकों को दिया जन्म

Neha Singh

दाऊद गुरु सलीम फ्रूट मामले में एनआईए को मिला चार्जशीट के लिए समय, 90 दिन का अतिरिक्त समय

Deepak dubey

Leave a Comment