Joindia
कल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबईशिक्षाहेल्थ शिक्षा

राज्य के हजारों हिन्दी शिक्षकों के बेरोजगारी का खतरा !, छठवीं से अनिवार्य करने का निर्णय

Advertisement
Advertisement

मुंबई। राज्य भर के स्कूलों मे दूसरे माध्यम के स्कूलों मे पांचवी कक्षा से हिन्दी अनिवार्य है। ऐसे मे अब राज्य सरकार ने हिन्दी विषय छठवीं से करने का निर्णय लिए जाने से शिक्षकों पर बेरोजगारी का संकट मंडराने लगा है। ऐसे मे राज्य भर के शिक्षकों ने इस निर्णय को रद्द करते हुए हिन्दी पहली कक्षा से शुरू करने की मांग की गई है। इस मांग का निवेदन राज्य के शिक्षण मंत्री को सौंपी है।

बतादे कि 1964 कोठारी आयोग के अनुसार त्रिभाषा के सिफारिश अनुसार राज्य मे मराठी प्रथम भाषा ,हिन्दी दिवतीय ओर अंग्रेजी तृतीय भाषा इन तीनों भाषा माध्यमिक स्तर पर अनिवार्य रूप से पढ़ाने चाहिए। उसके अनुसार राज्य मे पहले से हिन्दी विषय पाँचवी कक्षा से पढ़ाई जा रही है। लेकिन वर्तमान मे सरकार द्वारा लिए गए एक निर्णय के अनुसार अब हिन्दी विषय छठवी कक्षा से पढ़ाने का निर्णय लिया है। इसके खिलाफ राज्य भर के शिक्षकों मे काफी नाराजगी देखने मिल रही है। इस निर्णय के अनुसार राज्य भर के मराठी ,इंग्लिश ओर अन्य माध्यम के स्कूलों मे पाँचवी कक्षा के शिक्षक अतिरिक होने के साथ ही छात्रों को हिन्दी विषय से दूर करने की कोशिश की जा रही है। ऐसे मे शिक्षकों की मांग है कि हिन्दी को छठवी से करने के बजाय पहली से की जानी चाहिए। इससे छात्रों मे हिन्दी के प्रति रुचि बढ़ने के साथ ही हिन्दी को बढ़ावा मिलेगा। इस संदर्भ मे राज्य के शिक्षक मंत्री को निवेदन दिए है इसे जल्द से जल्द निर्णय वापस नहीं लिया गया तो इस निर्णय के खिलाफ राज्य भर के शिक्षको द्वारा आंदोलन करने की जानकारी महाराष्ट्र राज्य हिन्दी शिक्षक महामंडल द्वारा किया गया है।

Advertisement

Related posts

Bhumi Pednekar recognized as Young Global Leader: क्लाइमेट वॉरिअर भूमि पेडनेकर को वर्ल्ड इकॉनॉमिक फोरम द्वारा यंग ग्लोबल लीडर के रूप में मान्यता दी गई!

Deepak dubey

Drug Addiction: नशे में फंसकर दम तोड़ता गरीब का बचपन

Neha Singh

Illegal dumping proving fatal for pets too:पालतू जानवरों  के लिए भी जानलेवा साबित हो रहा अवैध डंपिंग

Deepak dubey

Leave a Comment