Joindia
सिटीदेश-दुनियामुंबईरोचकहेल्थ शिक्षा

युवापिढी मैं बढ रहे हैं स्ट्रोक के मामले

Advertisement

खानपान की गलत आदतें, अनियमित व्यायाम और तनाव के युवापिढी मैं स्ट्रोक का खतरा बढता दिखाई दे रहा है। यहां तक ​​​​कि अगर कोई एक स्ट्रोक से बच जाता है, तो अन्य स्वास्थ्य स्थितियां जैसे कि बोलने में कठिनाई का सामना करना पड सकता हैं। कई बार स्ट्रोक का झटका आनेपर मरीज को तुरंत इलाज न मिलने के कारण मृत्यू भी हो सकती हैं। केईएम अस्पतालों में प्रति माह 220-240 से अधिक स्ट्रोक के मरीज देखे जा रहे हैं। इसमें जादातर मरीज युवा हैं।

Advertisement

केईएम अस्पतालों के स्टोक यूनिट प्रमुख डॉ नितिन डांगे ने कहाँ की, “जीवन शैली और भोजन की आदतों में बदलाव के कारण भारत में स्ट्रोक के मामले बढ़ रहे हैं। कुछ वर्षों से, यह संख्या बढती दिखाई दे रही हैं।
केईएम में स्ट्रोक ओपीडी में 180-200 मरीज पुराने स्ट्रोक के लिए इलाज करने आ रहे हैं। और इतना ही नही बल्कि प्रति माह 220-240 नए मरीज दिखाई दे रहे हैं।
जंक फूड, तली हुई चीजें खाना, गतिहीन जीवन शैली, धूम्रपान, व्यायाम की कमी, और मधुमेह मेलिटस, उच्च रक्तचाप, और विकृत लिपिड प्रोफाइल आदि जैसी कारणों के कारण स्टोक का खतरा बढ रहा हैं। ”

स्ट्रोक का मतलब ब्रेन अटैक है और यह देश में विकलांगता का प्रमुख कारण है। यह किसी को भी और कहीं भी हो सकता है, चाहे उसकी उम्र कुछ भी हो। भारत गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के बोझ का सामना कर रहा है, और स्ट्रोक सबसे आम बीमारियों में से एक है। कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों और मधुमेह जैसे अन्य एनसीडी की बात आती है तो निश्चित रूप से जागरूकता होती है, लेकिन स्ट्रोक के लक्षणों को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता हैं। स्ट्रोक के जोखिम को कम करने के लिए नियमित स्वास्थ्य जांच और जांच के लिए जाना अनिवार्य है।

डांगे ने कहा, “स्ट्रोक के कारण स्थायी विकलांगता या मौत भी हो सकती हैं। इसलिए स्ट्रोक का झटका आनेपर समय रहते मरीज को इलाज मिलना काफी जरूरी है। एक अध्ययन से पता चलता है स्ट्रोक का झटका आनेपर लगभग 32000 मस्तिष्क कोशिकाएं 60 सेकंड (यानी 1.9 मिलियन प्रति मिनट) के भीतर नष्ट हो जाती हैं। इसलिए स्ट्रोक का तुरंत इलाज होना जरूरी हैं। हाथ की कमजोरी, चेहरा लटकना, बोलने मै कठिनाई ऐसे लक्षण किसी भी व्यक्ती मैं दिखाई दे तो तुरंत एम्बुलेंस को कॉल करें ताकि पीड़ित व्यक्ति का इलाज गोल्डन ऑवर के भीतर किया जा सके और स्थायी विकलांगता से बचाया जा सके।”

“समय पर लक्षणों को पहचानना और शीघ्र निदान कई लोगों की जान बचा सकता है। जिन मरीजों को स्ट्रोक हुआ है, उन्हें रोजाना व्यायाम करने, संतुलित आहार खाने, वजन को नियंत्रण में रखने, मधुमेह की निगरानी करने, दवा लेने और नमक का सेवन सीमित करने की आवश्यकता है, “डॉ डांगे ने कहाँ।

अपोलो स्पेक्ट्रा मुंबई के न्यूरोसर्जन डॉ चंद्रनाथ तिवारी ने कहां की, सदयस्थिती मे जीवनशैली के कारण 40-55 आयु वर्ग में स्ट्रोक का चलन बढ़ रहा है। रोजाना व्यायाम न करने के वजह से कई लोग रक्तचाप, रक्त शर्करा,स्टोक, हृदयविकार और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढने के कारण होने वाली समस्या का शिकार बनते जा रहे हैं। महामारी के दौरान उचित देखभाल न करना भी स्ट्रोक को आमंत्रित कर सकता है। एक स्ट्रोक से स्थायी विकलांगता या मृत्यु भी हो सकती है। हाथ की कमजोरी, वाणी का अकड़ना, अंगों में कमजोरी, चक्कर आना, सिर चकराना, चलने में कठिनाई, चेहरे की कमजोरी और शरीर के एक तरफ का लकवा। समय पर पता लगाने और शीघ्र उपचार से स्ट्रोक से संबंधित जटिलताओं के जोखिम को कम किया जा सकता है, ”

Advertisement

Related posts

प्रेमिका के लिए सुपारी देकर पत्नी को उतारा मौत के घाट

Deepak dubey

Diamond market : वेदांता फॉक्सकॉन के बाद भारत का सबसे बड़ा रत्न एवं आभूषण प्रोजेक्ट भी गुजरात जाएगा?  

Deepak dubey

MUMBAI: लोकल पर पत्थरबाजी जीआरपी या आरपीएफ की नही है ज़िम्मेदारी !

Deepak dubey

Leave a Comment