Joindia
कल्याणठाणेमुंबई

तेज आवाज  पर चला पुलिस का रोलर, 10 हजार  साइलेंसर,  हॉर्न किया नष्ट 

Advertisement

मुंबई। मुंबई में बढ़ते वायु और ध्वनि प्रदूषण(Air and noise pollution)को देखते हुए मुंबई ट्रैफिक पुलिस ने भी सख्त कदम उठाते हुए  हॉर्न बजाने वालों पर नकेल कसनी शुरू कर दी है| पिछले एक महीने में 11 हजार 636 वाहनों के विरूद्ध विशेष अभियान चलाकर 10 हजार 273 साइलेंसर एवं हार्न जब्त किये गये। जब्त किए गए साइलेंसर को शुक्रवार को वर्ली पुलिस ग्राउंड में रोलर  चलाकर नष्ट कर दिया गया। यह अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है|

Advertisement

यह कार्रवाई यातायात विभाग के संयुक्त पुलिस आयुक्त अनिल कुंभारे के नेतृत्व में की गई| वाहन चालकों द्वारा  वाहनों का साइलेंसर बदल कर तेज आवाज वाले हॉर्न लगाते  हैं, इससे बड़े पैमाने पर वायु और ध्वनि प्रदूषण बढ़ रहा है। इसकी गंभीरता को देखते हुए ट्रैफिक पुलिस ने विशेष अभियान चलाकर कार्रवाई शुरू कर दी है मुंबई ट्रैफिक  विभाग ने 21 मई से 11 जून के बीच विशेष अभियान चलाया और 11,636 वाहनों के खिलाफ कार्रवाई की|इस  ऑपरेशन में संशोधित 2005 साइलेंसर और तीखी आवाज वाले कुल 8,268 प्रेशर हॉर्न जब्त किए गए। साथ ही संबंधित पर 33 लाख 31 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है वर्ली पुलिस मैदान में शुक्रवार दोपहर जब्त किए गए साइलेंसर और हॉर्न को पुलिस ने नष्ट कर दिया है।
निर्माताओं और विक्रेताओं के खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी
ट्रैफिक विभाग के संयुक्त पुलिस आयुक्त अनिल कुम्भारे ने बताया कि  मुंबई ट्रैफिक विभाग के माध्यम से यह अभियान जारी रहेगा मोटर वाहन निर्माता द्वारा आपूर्ति किए गए मोटरसाइकिल साइलेंसर के साथ किसी भी अवैध तरीके से छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए, इसी प्रकार कानून द्वारा निर्धारित समय-समय पर प्रदूषण नियंत्रण जांच भी की जानी चाहिए।अब से ऐसे बदलाव करने वाले साइलेंसर और प्रेशर हॉर्न निर्माताओं, वितरकों और विक्रेताओं के खिलाफ मुंबई ट्रैफिक  विभाग द्वारा कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी।

Advertisement

Related posts

Mumbai Crime: धारावी में पत्नी के सामने ही पति का रेता गला, दो आरोपियों की तलाश

Deepak dubey

बिना पैकेट के अधिकारी नहीं देते हैं फायर एनओसी, अनिल परब का गंभीर आरोप, अग्नि प्रतिबंधात्मक नियम कठोर करने की मांग

Deepak dubey

Medical college will start soon: नवी मुंबई मनपा ने किया मेडिकल कॉलेज और सुपर स्पेशलिटी अस्पताल का प्रस्तुतीकरण, 8.40  एकड़ में बनने वाले अस्पताल के लिए होगा 819 करोड़ खर्च , केंद्रीय स्वास्थ्य विभाग से पहले ही मिल चुकी है एनओसी, 

Deepak dubey

Leave a Comment