Joindia
कल्याणठाणेदेश-दुनियानवीमुंबईमुंबईसिटी

Emergency medical help: रेलवे स्टेशन पर घंटों तड़पती रही महिला, नहीं मिली इमरजेंसी मदद

Advertisement

मुंबई । हार्बर रेलवे मार्ग पर रात के समय कुछ स्टेशनों का संचालन राम भरोसे हो रहा है। रात 10 बजे के बाद इमरजेंसी में मदद के लिए ना स्टेशन मास्टर (railway) होते है और नाही इमरजेंसी सुविधा (Emergency medical help), इसका खुलासा शनिवार रात को हुए एक घटना के बाद हुआ है । खार रेलवे स्टेशन ( khar परrailway station) पर रात बजे के करीब एक महिला यात्री गिर गई। मदद के लिए 108 पर कॉल भी किया गया । इसके बावजूद लगभग एक घंटे तक मदद नही मिल पाई। आखिरकार जीआरपी के एक जवान ने बिना देरी किए ऑटो से महिला को अस्पताल में भर्ती कराकर उसकी जान बचाई है।

Advertisement

Modi govt. 2.0 budget: चुनाव पर नजर, बजट पर दिखा असर, जानिए क्या हुआ सस्ता और क्या महंगा

जानकारी अनुसार शनिवार रात दस बजे के करीब खार रेलवे स्टेशन प्लेटफार्म एक पर एक महिला लोकल ट्रेन पकड़ने के लिए दौड़ी । तभी उसका हाथ छूटने से प्लेटफार्म पर गिर गई। जिसमे महिला का सिर फट जाने से खून बह रहे थे। इस दौरान स्टेशन पर मौजूद जीआरपी जवान संजय महाडिक को जानकारी होते ही महिला के मदद के लिए दौड़े आया । महिला को अस्पताल ले जाने के लिए 108 पर कॉल किया । लगभग आधे घंटे से अधिक समय तक महिला स्टेशन पर मदद के लिए तड़पती रही लेकिन एंबुलेंस और स्टेशन मास्टर नहीं पहुंचे । इस के बाद जीआरपी जवान ने बिना देरी किए। ऑटो से महिला को अस्पताल में उपचार के लिए भर्ती कराया। जीआरपी जवान के इस कार्य को लेकर यात्रियों द्वारा वाह वाही की जा रही है । वही रात के समय स्टेशन मास्टर के नही होने और इमरजेंसी मेडिकल सुविधा नही होने से नाराजगी व्यक्त की जा रही है। रेलवे एक्टिविस्ट समीर झवेरी ने बताया कि खार स्टेशन की तरह कई स्टेशनों पर रात के समय इमरजेंसी मेडिकल रूम बंद कर दिए जाते है जब की 24 घंटे इमरजेंसी सुविधा चालू रखा जाना चाहिए। बंद होने के कारण घायल यात्रियों को मदद में काफी समस्या होती है । इसे रेलवे प्रशासन को गंभीरता से लेनी चाहिए ।इस संदर्भ में मध्य रेलवे के जन संपर्क अधिकारी को फोन कर प्रतिक्रिया लेने की कोशिश की गई । लेकिन कोई जवाब नही मिला ।

Advertisement

Related posts

Shivsena (UBT): महाराष्ट्र मे भविष्य में दो ही नेता रहेंगे …शरद पवार और उद्धव ठाकरे!, संजय राउत का दावा

Deepak dubey

2008 मालेगांव ब्लास्ट केस: एक और गवाह अपने बयान से पलट गया, अब तक 19 गवाहों ने बदले अपने बयान; गवाह ने कहा-किसी आरोपी को नहीं जानता

cradmin

पनवेल फार्म हाउस में सलमान खान को मारने की थी साजि

Deepak dubey

Leave a Comment