Joindia
सिटीकल्याणठाणेनवीमुंबईमुंबई

MUMBAI: Sony TV के Crime petrol पर भड़का ‘हिन्दू राष्ट्र जागृति संगठन, दादर में आंदोलन कर कार्रवाई की मांग

Advertisement

मुंबई ।‘सोनी टीवी (sony tv) के कार्यक्रम ‘क्राइम पट्रोल 2.0’ के 212 क्रमांक के भाग में धर्मांध आफताब का पात्र ‘मिहिर’ इस हिन्दू नाम से और श्रद्धा वालकर नामक हिन्दू युवती का पात्र ‘एना फर्नांडिस’ इस ईसाई नाम से दिखाया गया । यह अत्यंत संतापजनक है । ‘सोनी टीवी’ के निर्माताओं ने 35 टुकडे करनेवाले आफताब को बचाते हुए हिन्दू युवक ने इतनी नृशंस हत्या की है, ऐसा दिखाया । इस अपराध की सर्वाधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि ‘लव जिहाद’ का मुद्दा दबाने का प्रयास किया गया । इसका हिन्दू समाज ने तीव्र विरोध किया । तदुपरांत सोनी टीवी ने कहा, ‘यह घटना आफताब-श्रद्धा वालकर संबंधी नहीं है । वर्ष 2011 की है । तब भी यदि किसी की भावना आहत हुई है, तो हमें खेद है’, इस आशय की भ्रमित करनेवाली क्षमा मांगी है । यह हिन्दू समाज की आवाज दबाने का प्रयास है । यदि यह भाग आफताब के प्रकरण का नहीं था, तो ‘सोनी टीवी’ ने अपने ऐप से यह 212 क्रमांक का एपिसोड डिलीट क्यों किया ? यह प्रमाण नष्ट करने का प्रयास है । जब तक यह एपिसोड एडिट कर सत्य घटना नहीं दिखाई जाती, तब तक हम अपना आंदोलन जारी रखेंगे, ऐसी चेतावनी हिन्दू जनजागृति समिति के प्रवक्ता सतीश कोचरेकर ने दी । ‘सोनी टीवी’ के विरोध में मुंबई के दादर (पू.) रेलवे स्थानक के बाहर किए गए ‘हिन्दू राष्ट्र जागृति आंदोलन’ में वे बोल रहे थे ।

सोनी टीवी ने क्षमा मांगते हुए दिए अपने स्पष्टीकरण में कहा कि ‘यह एपिसोड काल्पनिक है, जो वर्ष 2011 में हुई कुछ घटनाओं पर आधारित है ।’ एक ओर इस कार्यक्रम में ऐसी सूचना बताई जाती है कि ‘यह एपिसोड सत्य घटना पर आधारित है’, तो क्षमा मांगते समय वह काल्पनिक कैसे हो जाता है ? यदि वह काल्पनिक है, तो वर्ष 2011 की घटना पर आधारित है, ऐसा कैसा हो सकता है ? इससे स्पष्ट है कि सोनी टीवी झूठ बोल रहा है । वर्ष 2011 का वह कौन सा प्रकरण था जिस पर यह एपिसोड आधारित है, यह वे विस्तार से 2 दिन में बताएं, अन्यथा ‘सोनी टीवी’ हिन्दू समाज को भ्रमित कर रहा है, ऐसा माना जाएगा और आंदोलन और तीव्र किया जाएगा, ऐसा निश्चय इस समय हिन्दुत्वनिष्ठों ने किया ।

इस संदर्भ में हिन्दू जनजागृति समिति का शिष्टमंडल गुरुग्राम, हरियाणा स्थित सोनी पिक्चर्स नेटवक्र्स के कार्यालय में निवेदन देने के लिए गया, तब कंपनी ने निवेदन स्वीकार करने से मना कर दिया । इस प्रकार जनभावनाओं का आदर न करनेवाले सोनी टीवी का हम सार्वजनिक रूप से निषेध कर रहे हैं । इस समय धर्मप्रेमी हिन्दुओं ने हाथ में फलक पकडकर नारे लगाते हुए सोनी टीवी का निषेध किया ।

Advertisement

Related posts

मुंबई मनपा चुनाव की सुगबुगाहट बढ़ी, नए वार्डों का परिसीमन जल्द

dinu

रेल अधिकारी ही आरोपी ठेकेदार को आधे दाम पर बेचता था तेल !

Deepak dubey

जानिए मुंबई का पहला निजी पुल, इस लिए होगा जमींदोज

vinu

Leave a Comment