Joindia
Uncategorizedमुंबईराजनीतिसिटी

Hanuman chalisa: महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की साज़िश, राणा दंपत्ति किसका प्यादा? गृहमंत्री दिलीप वलसे-पाटिल ने दिया जवाब

महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे -पाटिल ने शनिवार को कहा कि विधायक रवि राणा और उनकी पत्नी सांसद नवनीत राणा की ‘मातोश्री’ के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की जिद के चलते मुंबई के बांद्रा इलाके में यह स्थिति गड़बड़ी बनी है। उन्होंने राणा दंपत्ति को जमकर सुनाया और राणा दंपत्ति को भाजपा का पिट्ठू बताया। राज्य में कानून व्यवस्था को प्रभावित करने के लिए भाजपा साजिश कर रही है। उन्होंने कहा कि अगर त्रिपुरा में कुछ होता ही तो विपक्ष महाराष्ट्र में हंगामा मचाता है। उन्होंने लाउडस्पीकर के मुद्दे पर समाज में अशांति पैदा करने के लिए भाजपा की भी आलोचना की। मुंबई में किसी एक घटना को लेकर राज्य में कानून व्यवस्था खतरे में पड़ने का मुद्दा उठाकर भाजपा राष्ट्रपति शासन लगाने की कोशिश कर रही है, लेकिन राज्य में कानून-व्यवस्था अच्छी है।

वलसे पाटिल ने स्पष्ट रूप से कहा कि राणा दंपत्ति यदि हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहते हैं, तो उन्हें अपने घर पर अमरावती में, मुंबई के फ्लैट में या दिल्ली में पढ़ना चाहिए। मातोश्री के सामने जाकर पढ़ने की जिद क्यों? ऐसे ही कोरोना काल में जब मंदिर बंद थे तो मंदिरों को खोलने की जिद और वहां आरती, महा आरती कर कानून व्यवस्था को बिगाड़ने का प्रयास किया। विपक्ष विभिन्न तरीकों से साजिस कर राज्य में कानून व्यवस्था खराब है ऐसा साबित करने के प्रयास में हीं और इसी के आधार पर राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग करना चाह रहा है। लेकिन यह इतना आसान भी नहीं है।

राणा दंपति है एक प्यादा

गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटील ने कहा कि राज्य में जन प्रतिनिधि जवाबदार व्यक्ति होता है। सांसद और विधायक को कानून के अंतर्गत रहकर काम करना चाहिए।संविधान अनुसार काम करते समय किसी प्रकार की अशांति, आंदोलन और द्वेष पैदा नहीं करना चाहिए। परंतु आज पब्लिसिटी के लिए राणा दंपति जैसे प्यांदे को आगे किया जा राह है। अन्यथा राणा दंपत्ति की इतनी हिम्मत नही है। राणा दंपति के इस कृत्य से राज्य और सरकार की प्रतिमा मालिक करने का प्रयास किया जा रहा है। यह एक सोची समझी साजिश का हिस्सा है। राज्य के हित के लिए ध्यान सोचना चाहिए। उन्होंने कहा कि विपक्ष को अभी से इतना संघर्ष करने की जरूरत नहीं है। चुनाव के लिए अभी वक्त है। चुनाव नजदीक आएगा तो सड़क पर उतरेंगे तो चलेगा।राज्य में कई समस्या है उन समस्याओं को निपटाने के लिए सरकार प्रयास कर रही। राज्य में शांति, कानून व्यवस्था बनाये रखने के लिए सभी के सहयोग जरूरत है।

Related posts

खाद्य पदार्थ विक्रेता संगठनों की एफएसएसएआई के खिलाफ मुहिम में एशिया की सबसे बड़ी मंडी की ग्रोमा मार्केट ने दिया समर्थन

Deepak dubey

उच्च शिक्षित जुड़वां बहनों ने एक ही युवक के साथ किया विवाह , धूमधाम से संपन्न हुआ विवाह समारोह

Deepak dubey

फर्जी कॉल सेंटर से योगी आदित्यनाथ को मिली थी धमकी

Deepak dubey

Leave a Comment